ये प्यास कब बुझेगी साहब लोग ! पिनगवां कस्बे में पानी को लेकर हाहाकार मचा
June 22nd, 2020 | Post by :- | 40 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  नूह जिले के पिनगवां कस्बे में पानी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। ग्रामीण परेशान हैं । राजीव गांधी पेयजल योजना का ग्रामीणों को कोई फायदा  मिलता नहीं दिख रहा है । महिलाओं को खारे पानी से गुजारा करना पड़ रहा है या फिर खरीदकर पानी पीने को मजबूर होना पड़ रहा है । सबसे ज्यादा परेशानी नग्गर कॉलोनी वार्ड नंबर 3 – 4 में बनी हुई है।  पिनगवां कस्बे की महिलाओं का आरोप है कि पानी छोड़ने वाला कर्मचारी अपनी मनमानी के चलते समय पर पानी की कटौती कर रहा है । अगर पानी आता भी है , तो रात्रि दो बजे आता है । जब लोग गहरी नींद में सोए हुए रहते हैं ।  जिसकी वजह से किसी को पानी नसीब होता है , किसी को नहीं । कभी कभार  तो पानी नहीं मिलने की वजह से खाली मटके , बर्तनों के साथ  सुबह से लेकर शाम तक पानी के लिए भटकना  पड़ता है। जनस्वाथय विभाग द्वारा कॉलोनी  में पानी की पाईप लाइन बिछाने के लिए डाले गए पाइप तो दिखाई दिए , लेकिन जनस्वास्थय विभाग पानी देना भूल गया है । जिसकी वजह से लोग परेशान हैं , ग्रामीणों का कहना है कि शुद्ध पेयजल नहीं मिल पा रहा है । जिसकी वजह से कई प्रकार की बिमारियों का खतरा बना रहता है । लोगों के मुताबिक कई बार शिकायत की जा चुकी है , लेकिन कोई भी सुनवाही नहीं करता।
आप को बता दें कि मेवात जिला के 503 गांवों के लोगों कि प्यास बुझाने के लिये 15 – 16  साल पहले शुरू की गई राजीव गांधी पेयजल योजना के सभी भाग पूरे होने के बावजूद लोगों को पानी नसीब ही नहीं हुआ है।  पुन्हाना खंड के कई  गांव के लोग इन दिनों इस परियोजना से खासे परेशान हैं । सारा दिन महिलाओं का पानी भरने में ही गुजर जाता है।  इन तस्वीरों को देखकर लगता नहीं कि हरियाणा कहीं से भी विकसित सूबों की फेहरिस्त में शामिल है। देश – प्रदेश भले ही तरक्की कर रहा हो , लेकिन हरियाणा का नूह जिला आज भी बुनियादी सुविधाओं के लिए तरस रहा है। गर्मी के सीजन में जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के सारे दावे खोखले नजर आते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।