प्रदूषण विभाग ने किया प्लांट सील
June 22nd, 2020 | Post by :- | 30 Views
– युवाओ की शिकायत पर हरकत में आया प्रदूषण विभाग…
गांव मलपुर मे पिछले कई सालों से  दो हॉट मिक्स प्लांट चल रहे हैं। जिनकी पिछले कई सालों से प्रदूषण विभाग में स्थानीय ग्रामीण और युवा विकास समीति कई बार शिकायत कर चुके हैं। शिकायत के बाद एक प्लांट को सील कर दिया गया। जिसे बाद में प्लांट मालिक सील तोडक़र कई सालों तक काम चलाता रहा। कई शिकायतों के बावजूद प्रदूषण विभाग ने एक प्लांट को तो दोबारा सील कर दिया गया। लेकिन दूसरा प्लांट खुलेआम प्रदूषण फैला रहा है। जबकि प्रदूषण विभाग के अनुसार इस प्लांट को चलाने के लिए उनके पास से कोई अनुमति नहीं दी गई है। फिर भी प्रदूषण विभाग इस प्लांट पर कार्रवाही करने से पीछे हट रहा है। जब इस बाबत स्थानीय ग्रामीणों ने प्रदूषण विभाग से संपर्क किया तो विभागीय अधिकारियों की तरफ से कोई स्पष्ट जवाब न मिलने से ग्रामीण और युवा समीति में बहुत रोष है। उन्होंने कहा कि अगर विभाग इस प्लांट पर जल्द कोई कार्रवाही नहीं करता तो युवा समीति बड़े स्तर पर विभाग के खिलाफ प्रदर्शन करेगी। इसकी शिकायत मुख्यमंत्री के समक्ष की जाएगी। युवा समीति के अध्यक्ष केवल कृष्ण, भूपिंद्र सिंह, प्रवीण, राम करण, हमेराज व मोहित चौधरी ने कहा कि इस संबंध में प्रदेश सरकार द्वारा जारी 1100 नंबर पर भी कई बार शिकायत डाली गई है, लेकिन अभी तक कोई उचित कार्यवाई अमल में नहीं लाई गई है। युवा समीति के सदस्यों ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा जारी 1100 नंबर पर शिकायत करने के बावजूद बददी स्थित प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के कार्यालय में भी कई बार इस संबंध में शिकायत की गई है। उन्होंने कहा कि बददी विश्वविद्यालय के लडक़ों के छात्रावास के बिल्कुल साथ सटे होने के चलते इस हॉस्टल में रह रहे बच्चों के स्वास्थ्य पर भी इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।              इस संबंध में अधीक्षण अभियंता प्रदूषण बोर्ड बददी प्रवीण गुप्ता ने कहा कि पिछले कल भी हमारी टीम इस प्लांट का निरीक्षण करने गई थी और आज दोबारा भेजी है। यह दोनों प्लांट वर्ष 2007 के स्थापित किए हुए हैं। इनको हटाना संभव नहीं है। प्लांट मालिक को प्रदूषण कम करने अथवा अत्याधुनिक डिवाइस लगाने के लिए कहा गया है। ग्रामीणों की समस्या को हल करने के लिए विभाग कृतसंकल्प है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।