केयर इंडिया कोरोना महामारी की इस आपदा में गरीबो की बनी सहारा|
June 22nd, 2020 | Post by :- | 22 Views

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 22 जून :- मेवात व पलवल जिले में शिक्षा विभाग के साथ मिलकर लडकियो को स्वाभलम्बी बनाने में जुटी केयर इंडिया कोरोना महामारी की इस आपदा में अब गरीबो का सहारा बनकर आई हैं। बालिका शिक्षा व उनके नेतृत्व क्षमता की अलख जगाने में  लगी केयर इंडिया ने अब कोरोना महामारी में जरूरतमंद परिवारों को एक-एक माह काराशन दिया। शहरी विकास प्राधिकरण के कार्यकारी अभियन्ता मनोज कुमार, जिला बाल कल्यान अधिकारी सुरेखा डागर, केयर इंडिया के गुणानिधि मलिक, आलोक पुरोहित, कोमल, के साथ रामनगर, सल्लागढ में अपने सभी कार्यकर्ताओ के साथ लोगो को राशन वितरित किया।

आलोक पुरोहित ने बताया कि हरियाणा के पलवल एवं मेवात जिले में शिक्षा विभाग के साथ मिलकर केयर इंडिया द्वारा पलवल के गांवो में गैर बीपीएल एवं जरूरतमंद परिवारों को एक माह का राशन दिया जा रहा हैं। पलवल में सर्वे के बाद 735 परिवारों को ड्राई राशन दिया जा रहा हैं। यह राशन वितरण सामग्री कोका कोला फाउंडेशन एवं केयर इंडिया के सौजन्य से जरूरतमंदों को प्रदान कि जा रही हैं। पलवल के तीन गांवो में राशन वितरण सामग्री वितरित की गई।

इस कार्य में जुटी टीम में 20 एकेडमिक लर्निंग कम्युनिटी कोऑर्डिनेटर एवं 10 हायर वॉलिंटियर्स एवं केयर के उच्चायुक्त अधिकारी व शिक्षा विभाग के हुकम सिह गौतम शामिल थे। उन्होने बताया कि इस कार्य के लिए अलग-अलग जगह का सर्वेक्षण किया गया एवं उन परिवारों याजरूरतमंद लोगों की पहचान की गई, जिनका इस लॉकडाउन में गुजारा करना मुश्किल हो रहा था ।

उन्होने कहा कि कोविड-19 एक खतरनाक बीमारी है जिसने  लोगों को घरों में बंद रहने पर  मजबूर कर दिया है। कोविड-19 की वजह से कई परिवारों का  रोजगार पूर्ण रूप से खत्म हो चुका है कई परिवार अपने  घरों की तरफ पलायन कर चुके हैं परंतु  कई ऐसे भी हैं जो अपना  रोजगार छोडकऱ दुख पूर्ण जीवन जीने को मजबूर है। ऐसे परिवारों की मदद के लिए यह राशन सामग्री का वितरण किया जा रहा है।

उन्होने कहा कि केयर इंडिया हमेशा से आपदा हमेशा से आपदा के समय लोगों के बीच में आकर उनकी सहायता करता है। राशन में प्रत्येक परिवार को सूखा राशन दिया जाता है जिसमें आटा, चावल, मसाले, सोयाबीन, कपड़े धोने का साबुन एवं नहाने का साबुन दिया जा रहा हैं ताकि वह अपना गुजारा चला सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।