बुवानीवाला का 51वां जन्मदिवस गऊ माता की सेवा एवं पौधारोपण के साथ मनाया गया|
June 22nd, 2020 | Post by :- | 39 Views

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर)  सुन्दर कुंडु  :- अग्रवाल वैश्य समाज की पलवल इकाई के पदाधिकारियों द्वारा संगठन के प्रदेश अध्यक्ष अशोक बुवानीवाला का 51वां जन्मदिवस पर गऊ माता की सेवा एवं पौधारोपण के साथ मनाया गया। प्रेरणा दिवस के रूप में मनाए गए जन्मदिवस समारोह के दौरान प्रदेश संयुक्त मंत्री ललित बिंदल, युवा प्रदेश प्रवक्ता निकुंज गर्ग, युवा शहरी जिलाध्यक्ष आदित्य सिंगला, एवीएसएसओ के जिलाध्यक्ष जतिन बंसल, पलवल अध्यक्ष प्रियांशु गर्ग, नितिन गर्ग उपस्थित रहें।

इस मौके पर संयुक्त मंत्री ललित बिंदल ने कहा कि अग्रवाल वैश्य समाज के प्रदेशाध्यक्ष अशोक बुवानीवाला की सोच व पहल के अनुरूप आज प्रदेश का वैश्य समाज एकमंच पर समाज के राजनीतिक अधिकारों की लड़ाई लड़ रहा है। उन्होंने कहा कि आज से 11 वर्ष पूर्व संगठन का गठन करके समाज की राजनीतिक भागीदारी की जो पहल उन्होंने की थी आज वह सकारात्मक रूप से प्रभावी होती नजर आ रही है। उनके नेतृत्व में आज वैश्य समाज पंचायत से लेकर विधानसभा तक चुनाव में सक्रिय रूप से अपनी पहचान बना रहा है।

इस मौके पर उपस्थित युवा प्रदेश प्रवक्ता निकुंज गर्ग ने कहा कि आज प्रदेशाध्यक्ष अशोक बुवानीवाला का जन्मदिवस स्थानीय गऊशाला में गऊमाता को हरा चारा खिलाकर व 51वें जन्मदिवस के प्रतीक के रूप 51 पौधें रोपित कर मनाया गया है। उन्होंने कहा कि बुवानीवाला के नेतृत्व में राजनीति के साथ-साथ आज संगठन के सामाजिक कार्यों में भी अग्रणी कार्य कर रहा है। लॉकडाउन के दौरान समाज प्रदेशभर में समाज द्वारा अनेकों परोकार के कार्य किए गए है।

निकुंज गर्ग ने कहा कि आज उनकी मेहनत के परिणाम स्वरूप राजनीति व सामाजिक क्षेत्र में वैश्य समाज सक्रियता के साथ काम कर रहा है। युवा शहरी जिलाध्यक्ष आदित्य सिंगला ने भी प्रदेश अध्यक्ष अशोक बुवानीवाला को अपनी शुभकामनाऐं देते हुए कहा कि उनके मार्गदर्शन में वैश्य समाज अब जागरूक हो चुका है। उन्होंने कहा कि प्रदेश का वैश्य समाज आज एक मंच पर है और अपने अधिकारों के प्रति सजग व सतर्क है। उन्होंने कहा कि महाराजा अग्रसेन के सिद्धांतों पर चलते हुए आज अशोक बुवानीवाला के नेतृत्व में अग्रवाल वैश्य समाज भी अपनी अलग पहचान बना चुका है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।