कोरोना महामारी के कारण मंदिर-मस्जिदों में लगी पाबंदियों से मिल सकती है दर्शन की इजाजत
June 22nd, 2020 | Post by :- | 20 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । राजस्थान में सभी धार्मिक स्थलों को खोलने का सुझाव देने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में गठित समितियों ने अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली है। दो सप्ताह से अधिक चली मैराथन बैठकों में अधिकतर धार्मिक स्थलों को 31 जुलाई के बाद ही खोलने के सुझाव मिले। हालांकि,धर्मगुरुओं ने कुछ पाबंदियां जारी रखने की आवश्यकता जताई है। जिला कलेक्टर 25 जून को राज्य सरकार को अपनी-अपनी रिपोर्ट सौपेंगे। इसके बाद ही प्रदेश में धार्मिक स्थलों को खोलने पर राज्य सरकार निर्णय लेगी।
*सालासरधाम बालाजी मंदिर 31 जुलाई से पहले नहीं खुलेगा:
आस्था के प्रतीक सालासरधाम बालाजी मंदिर के पुजारी ने कहा की कोरोना के कारण 31 जुलाई से पहले मन्दिर भक्तों के लिए नहीं खुलेगा। प्रबंधन ने श्रद्धालुओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए निर्णय लिया। हाल ही में जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बैठक में यह फैसला लिया गया।
इसी कड़ी में पुष्कर में स्थित जगतपिता ब्रह्मा मंदिर के लिए जिला प्रशासन ने धर्मगुरुओं से चर्चा कर ली है। धर्म गुरुओं ने कुछ पाबंदियों को जारी रखने की आवश्यकता जताई है। इसी तरह सरवाड़ दरगाह में बड़ी संख्या में जायरीन आते हैं। यहां कोरोना के संबंध में जारी दिशा निर्देशों की पालना के संबंध में चर्चा की गई। दरगाह के प्रतिनिधियों ने कहा कि सरकार द्वारा दरगाह खोलने की अनुमति मिलने पर ही इसे खोला जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।