जुएं के अड्डे पर दबिश देने कोंडागांव पुलिस पहुंची धनोरा के जंगल मे
June 22nd, 2020 | Post by :- | 299 Views

कोंडागांव/अमरेश कुमार झा


करमरी हिचका के बीच जंगल में मिला जुएं का अड्डा


पुलिस अधीक्षक कोण्डागांव श्री बालाजी राव (भा.पु. से.) के निर्देश पर जिला कोंडागांव में विभिन्न थाना क्षेत्रों में लगातार जुएं के अड्डों पर छापामार कार्यवाही जारी है । इसी क्रम में थाना धनोरा क्षेत्र में नक्सल संवेदनशील क्षेत्र के ग्राम करमरी और हिचका के बीच जंगल मे पहाड़ी की आड़ में कल 21 जून को एक बड़ा जुएं का अड्डा चलने की बात की सूचना मुखबिर के ज़रिए पता चलने पर पुलिस अधीक्षक कोंडागांव ने जिले के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनंत कुमार साहू के मार्गदर्शन में तथा अनुविभागीय अधिकारी केशकाल अमित पटेल और उप पुलिस अधीक्षक ऑप्स दीपक मिश्रा के नेतृत्व में जिला मुख्यालय और अनुविभाग केशकाल की एक संयुक्त टीम गठित कर कार्यवाही के लिए धनोरा क्षेत्र में रवाना किया । टीम जब कार्यवाही करने करमरी और हिचका के जंगल में इस जुएं के अड्डे पर पहुंची तो वहां का सेटअप देख दंग रह गई । जुआरियों ने जंगल के बीच मे तिरपाल खिंच कर दरी इत्यादि लगाकर एक कैम्प जैसा माहौल बना रखा था हालांकि टीम के आने की सूचना शायद जुवारियों को गांव में घुसते ही पहले से लग गई इसलिए मौके पर कोई जुवारी खेलते पकड़ में नही आ पाया पर इस क्षेत्र में अचानक पुलिस की इस कार्यवाही से आनन फानन में कई जुवारी अपनी मोटरसाइकिल और चप्पल इत्यादि सब छोडछाड़कर भाग गए और मौके पर कुल 8 मोटरसाइकिल, तिरपाल, दरी , ताश के पत्तों के 3 पैकेट्स , पानी बोतल इत्यादि मिले। जप्त वाहनों और सेटअप से ऐसा प्रतीत होता है कि यहां भारी मात्रा में जुवारियों का जमावड़ा रहा होगा । एक ओर जहां कोरोना संक्रमण काल मे जिला पुलिस और जिला प्रशासन आमजनों से फिजिकल डिस्टेंसिंग बनाए रखने की अपील कर रहा है वहीं ऐसे असामाजिक लोग जुएं की लत के चलते संक्रमण को रोकने के लिए बनाए गए नियमों की अनदेखी कर रहे हैं।
फिलहाल धनोरा थाना पुलिस ने सभी वाहनों को धारा 102 दंड प्रक्रिया संहिता के तहत जप्त कर लिया है और मामले में संलिप्त लोगों की जांच की जा रही है ।
इस कार्यवाही में उप निरीक्षक संजय शिंदे , उप निरीक्षक यशवंत सिंह श्याम, उप निरीक्षक रवि पांडेय समेत केशकाल अनुविभाग और जिला मुख्यालय के अन्य जिला बल स्टाफ सक्रिय भूमिका में रहे ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।