नूरपुर में किसान की बेटी बनी एक दिन की एसडीएम” कार्यवाही जाने की जताई थी इच्छा”
June 22nd, 2020 | Post by :- | 39 Views

 

मुकेश सरमाल ( इंदौरा )

कांगड़ा में एक दिन की एसडीएम बनी कर्मचारी की बेटी के बाद अब नूरपुर मैं एक किसान की बेटी ने एसडीएम नूरपुर के साथ कुर्सी सांझा की फर्क सिर्फ इतना है कि कांगड़ा में खुद एसडीएम ने अपने कार्यालय में कर्मचारी की बेटी को सम्मानित करने के लिए एक दिन का सीएम बनाया था लेकिन यहां खुद चलकर जो मेरा गांव की पलक अपने किसान पिता संतोष के साथ एसडीएम के पास पहुंची और कुछ समय के लिए कार्यालय की कार्यवाही जाने की इच्छा जाहिर की समरहिल स्कूल लोधवां की इस छात्रा ने हाल ही में प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा घोषित दसवीं कक्षाइन नतीजों में 96% अंक हासिल किए हैं एसडीएम डॉ सुरेंद्र ठाकुर ने पलक से कुछ सवाल जवाब किए तथा उसके बाद अपने बगल में एक कुर्सी लगाकर बेटी को बैठा लियाकुछ देर तक एसडीएम ने पलक को कार्यालय में उनके द्वारा किए जा रहे कार्यो पर नजर रखने को कहा तथा उसके बाद करो ना महामारी से संबंधित मैन्युअल कर्फ्यू पास के आवेदकों की जांच कर अनु को जारी करने को सौंपा उन्होंने कार्यालय की विभिन्न शाखाओं में ले जाकर हर प्रशासनिक कार्य करने के तरीकों और उस पर प्रशासनिक अधिकारियों के तौर पर निर्णय लेने के  गुर भी सिखाए

 

एक दिन सीएम की कुर्सी पर बैठूंगी

पलक ने बताया कि उसके पिता किसान हैं जबकि उसके अंकल हिमाचल में आईपीएस अधिकारी के पद पर रह चुके हैं उसने बताया कि वे अपने अंकल केके इंदौरिया से काफी प्रभावित हैं तथा आईएएसबनना चाहती हैं

 

पलक इंदौरिया ने मीडिया में कांगड़ा का एपिसोड देखने के बाद उसे भी यह महसूस किया कि यदि आईएएस बनना है तो मुझे भी प्रशासनिक अधिकारियों की कार्यशैली व कार्य को अनुभव करना चाहिए पलक ने बताया कि आईएएस बनना उसका सपना है लेकिन एसडीएम कार्यालय में कुछ समय प्रशासनिक कार्य देखने व समझने के बाद अब यह सपना जुनून बन गया है तथा 1 दिन एसडीम की कुर्सी पर बैठकर ही रहूंगी पलक तथा उसके पिता ने एसडीएम सुरेंद्र ठाकुर का गतिविधियां बताने के लिए आभार व्यक्त किया 

 

एसडीएम डॉ सुरेंद्र ठाकुर ने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि पलक की लगन और मेहनत से उसके सपनों की उड़ान को मंजिल अवश्य मिलेगी उन्होंने पलक को भरोसा दिया कि विश्व में जब भी उसे उनकी तरफ से किसी सहयोग की आवश्यकता होगी तो वे उसके लिए हमेशा तत्पर रहेंगे

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।