बिलोचिया ग्राम पंचायत सरपंच, ग्राम विकास अधिकारी और कम्प्यूटर अपरटेटर पर लगे मनरेगा में गड़बड़ी के आरोप।मुख्यमंत्री को भेजी उपखण्ड अधिकारी के मार्फ़त शिक़ायत
June 22nd, 2020 | Post by :- | 28 Views

श्रीगंगानगर, लोकहित एक्सप्रैस(सतनाम मांगट)।ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार देने के दावे यहां खोखले साबित हो जाते हैं जब स्थानीय मजदूरों के साथ ही ग्रामीण लोगों को रोजगार मुहैया कराने वाले जिम्मेदार लोगों पर गड़बड़ी व भृष्टाचार के आरोप लगाते हुए ग्रामीण मजदुर चीखते चिल्लाते सरकार से न्याय की गुहार लगा रहे हो।श्रीगंगानगर में श्रीविजयनगर के ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम पंचायत बिलोचिया में मनरेगा योजना के द्वारा सरपंच, कम्प्यूटर ऑपरेटर और ग्राम विकास अधिकारी सहित मनरेगा मेट के साथ मिलीभगत करते हुए लगभग 5 लाख रुपये की गड़बड़ी करने के आरोप सामने आए हैं, ग्राम पंचायत के वार्ड 7 से पूर्व वार्ड पंच व कई ग्रामीण मजदूरों ने ग्राम पंचायत बिलोचिया में हो रही इस प्रकार की गड़बड़ी की जांच करवाने व दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है और भयंकर रूप से भृष्टाचार की शिक़ायत उपखण्ड अधिकारी के माध्यम से उप मुख्यमंत्री और मुख्यमंत्री के नाम भेजी है लेकिन फिलहाल ग्रामीण मायूस दिखाई दे रहे हैं क्योंकि उनकी शिकायत पर कार्रवाई करने के बजाय उनको मनरेगा से ही हटा दिया गया है और शिक़ायत करने वालों के खिलाफ मारपीट करने के झूठे मुकदमे दर्ज करवा दिए गए हैं, इस प्रकार रोजगार गारंटी देने वाली सरकारें रोजगार देते नहीं आ रही सिवाए गरीब मजदूरों के नाम पर भ्र्ष्टाचार करके उनके साथ इस प्रकार बेईमानी करके कोरोना काल मे आजीविका खत्म होने से मिले जख्मों पर नमक छिड़कने का काम करते नजर आ रही है हालांकि सरकार दावे करती है ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार उपलब्ध कराने की प्राथमिकता है लेकिन यहाँ ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा योजना के नाम पर ग़रीब को रोजगार न देकर उच्च वर्ग और बड़े बड़े सेठों व आयकर रिटर्न भरने वालो को भी मनरेगा में काम पर दिखा रखा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।