साबिर कासमी ने अपना सख्त विरोध जताते हुए एंकर अमिश देवगन और चैनल पर तूरंत कार्रवाई करने की मांग की
June 21st, 2020 | Post by :- | 131 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । न्यूज़ 18 इंडिया के ऐंकर अमिश देवगन द्वारा लाइव टीवी शो के दौरान भारत के अज़ीम सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की शान में गुस्ताखी करने पर देश के साथ साथ मेवात के लोगों में सख्त रोष पाया जा रहा है।इस सधंर्भ में जमियत उलेमा हिंद मेवात यूनिट के महा सचिव मौलाना साबिर कासमी ने अपना सख्त विरोध जताते हुए एंकर अमिश देवगन और चैनल पर तूरंत कार्रवाई करने की मांग की है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सरकार ने तूरंत कारवाई नही की तो जल्द ही ऐसे चेनल और एंकर के खिलाफ आंदोलन खड़ा कर मेवात में जगह जगह मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।जिस की रणनीति तय्यार की जा रही है।
गौर तलब है कि एंकर अमिश देवगन द्वारा विश्व विख्यात सूफी संत ख्वाजा ग़रीब नवाज़ के सम्बंध में आपत्तिजनक टिप्पणी किए जाने पर विश्व विख्यात इस्लामिक शिक्षण संस्था दारुल उलूम देवबन्द ने भी इस सधंर्भ मे कड़ा रोष जताया है। दारुल उलूम देवबंद ने सरकार से एंकर और चैनल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।आप को बता दें कि एक टिवी बहस के दौरान अमिश देवगन ने अज़ीम सूफी संत ख्वाज गरीब नवाज़ हज़रत मुइनुद्दीन चिश्ती की शान में सर ए आम गुस्ताख़ी करते हुए उन के लिए ‘लुटेरे’ जेसे शब्द का इस्तेमाल किया था।
चैनल पर डिबेट के दौरान एंकर द्वारा ख्वाजा ग़रीब नवाज़ के सम्बंध में आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किए जाने से देश ही नहीं विदेशों तक मे बसने वाले उनके लाखों अनुयाई और चाहने वाले आहत हुए हैं। देश के सबसे बड़े सूफी संत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती अजमेरी के बारे में की गई आपत्तिजनक टिप्पणी पर दारुल उलूम देवबंद के मोहतमिम मुफ़्ती अबुल क़ासिम नौमानी ने कड़ी नाराजगी जताई है।
 उन्होंने कहा कि टीवी एंकर की इस गुस्ताख़ी से यह साबित हो गया है कि देश में मदरसों के बाद सम्प्रदायिक ताकतों के निशाने पर ख़ानक़ाहे व मज़ार भी हैं। कहा कि हज़रत अजमेरी सिर्फ हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि पूरे बर्रे सगीर के रूहानी पेशवा है। देश विदेश के लाखों लोग मज़हबों मिल्लत से ऊपर उठकर उनसे मोहब्बत करते हैं। टीवी एंकर की गुस्ताख़ी से उन सबके दिलों को गहरी चोट पहुंची है। मुफ़्ती अबुल क़ासिम ने सख्त नाराज़गी का इज़हार करते हुए सरकार से ऐंकर और सम्बंधित चैनल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।