हजारों कर्मचारियों की बर्खास्तगी व जन सेवाओं के निजीकरण के खिलाफ़ जिला मुख्यालय पर जोरदार प्रदर्शन|
June 19th, 2020 | Post by :- | 212 Views

मुख्यमंत्री के नाम संबोधित दस सुत्रीय मांगों का ज्ञापन उपायुक्त की गैर मौजूदगी में एसडीएम को सौंपा गया|

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 19 जून :- सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के आह्वान पर 1983 पीटीआई सहित अन्य विभागों से हजारों कर्मचारियों को बर्खास्त करने  30 सितंबर को 11 हजार कोरोना योद्वाओं स्वास्थ्य ठेका कर्मियों को नौकरी से निकालने व जन सेवाओं का निजीकरण करने  से गुस्साए कर्मचारियों ने शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। प्रर्दशन में  पुरानी पेंशन बहाल करने, ठेका प्रथा समाप्त कर ठेका कर्मचारियों को सीधे विभागों के पे रोल पर लेकर पक्का करने व श्रम कानूनों को प्रोटेक्ट करने आदि मुद्दों को भी प्रमुखता से उठाया गया।

प्रर्दशन के बाद मुख्यमंत्री के नाम संबोधित दस सुत्रीय मांगों का ज्ञापन उपायुक्त की गैर मौजूदगी में एसडीएम को सौंपा गया। प्रर्दशनकारी गुर्जर धर्मशाला में एकत्रित हुए और वहां से सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा, जिला प्रधान राजेश शर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनवारी लाल, जिला सचिव योगेश शर्मा, प्रेस सचिव रमेश चंद्र व कोषाध्यक्ष देवीसिंह सहजवार की अगुवाई में सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए जुलूस की शक्ल में उपायुक्त कार्यालय पर पहुंचे और वहां जमकर प्रदर्शन किया।

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा एवं आल इंडिया स्टेट गवर्नमेंट इंप्लाईज फैडरेशन  के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुभाष लांबा ने सरकार को अल्टीमेटम दिया गया कि शुक्रवार को प्रदेशभर में हुए प्रदर्शनों के बाद भी सत्ता के नशें में चूर सरकार ने पीटीआई व अन्य विभागों से बर्खास्त हजारों कर्मचारियों को बहाल नहीं और अन्य मांगों का समाधान नहीं किया तो 3 जुलाई को प्रदेशभर में सभी विभागों में बड़े प्रर्दशन किए जाएंगे।

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार कोरोना को अवसर के रूप में प्रयोग करते हुए बिजली, परिवहन,जन स्वास्थ्य, शिक्षा आदि जन सेवाओं सहित सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को निजी हाथों में सौंप रही है। उन्होंने कहा कि प्राइवेट सेक्टर को मजदूरों को छंटनी न करने का उपदेश देने वाली सरकार ने लाकडाउन का फायदा उठाकर 1983 पीटीआई, हरियाणा टूरिज्म से 424, कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड से 165, हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण से करीब 90, नगर निगम सोनीपत से सैकड़ों सफाई कर्मचारी एवं 23 फायरमैन, बिजली निगमों से 65, बीएडआर से 7 को नौकरी से निकाल दिया और मीरपुर युनिवर्सिटी से 83 असिस्टेंट प्रोफेसर को जबरन कार्य मुक्त कर दिया है।

उन्होंने कहा कि आज बिना किसी तैयारी के 24 मार्च को किए गए लाकडाउन के कारण 14 करोड़ लोगों की नौकरी चली गई, किसान व मजदूर बर्बादी के कागार पर पहुंच गए हैं। जीडीपी भयंकर रूप से गिर रही है। लेकिन सरकार कोरोना, बेरोजगारी, मंहगाई से निपटने की कोई कारगर नीति अपनाने की बजाय राज्य सभा चुनाव जीतने के लिए विधायकों की खरीद-फरोख्त करने और बिहार व पश्चिम बंगाल में चुनावी रैलियों में व्यस्त हैं।

जिला प्रधान राजेश शर्मा की अध्यक्षता व जिला सचिव योगेश शर्मा द्वारा संचालित इस प्रर्दशन में बिजली,जन स्वास्थ्य, सिंचाई, पशुपालन एवं डेयरी, मार्किट कमेटी, स्वास्थ्य, बीएडआर, रोड़वेज, नगर परिषद्, आईटीआई, शिक्षा, डीसी आफिस, मंडी बोर्ड आदि विभागों के सैकड़ों की तादाद में कर्मचारियों ने भाग लिया।  प्रर्दशन को कर्मचारी नेता जितेंद्र तेवतिया, राकेश तंवर, राजकुमार डागर, दीना बत्रा, बालकिशन, राकेश तंवर, देवेन्द्र नम्बरदार, किसान सभा के उपाध्यक्ष डाक्टर रघुबीर सिंह, गीतेश आदि ने संबोधित किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।