चीन की इस घिनौनी हरकत का प्रधानमंत्री मोदी दें सख्त से सख्त लहजे में मुंंह तोड़ जवाब: शैलजा ठाकुर
June 18th, 2020 | Post by :- | 44 Views

कालका, (हरपाल सिंह) : वीरवार को शिव सेना हिन्द की अहम बैठक पानी वाला पड़ाव कालका में आयोजित की गई। जिसकी अध्यक्षता राष्ट्रीय अध्यक्ष महिला विंग शिव सेना हिन्द शैलजा ठाकुर ने की। बैठक में सबसे पहले गलवान घाटी में चाइनीज सेना के साथ झड़प में शहीद हुए हमारे 20 बहादुर सैनिक की आत्मिक शांति लिए 2 मिनट का मौन रखा गया। शिव सेना हिन्द की समस्त टीम आज इस विपत्ति की घड़ी में अपने भारत देश व अपनी सेनाओ के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है।

चीन की यह बहुत बड़ी भूल है कि वह आज भी हमें 1962 वाला भारत समझ रहा है। आज भारत हर प्रकार की विपत्ति से लडऩे में सक्ष्म है। चीन ने 1962 में भी हिंदी चीनी भाई-2 कहकर धोखे से हमला किया था और 2020 में भी वह करोना काल में हुई पूरे विश्व में हुई अपनी बेइज्जती से बचने के लिये और पूरे विश्व का ध्यान भटकाने के लिये भारत चीन सीमा पर इस प्रकार की घटनाओं को बढ़ा रहा है। एक तरफ तो वह सैन्य अधिकारियों के स्तर पर वार्ता कर इस मुददे का हल निकालना चाहता है और दूसरी ओर हमारे सैनिकों को बेसबॉल के डंडो पर लिपटी कंटीली तारों से बुरी तरह जख्मी कर मौत के घाट उतारने का काम करता है। चीन की यह दोगली नीति शुरू से ही रही है। उन्होंने भारत सरकार से अनुरोध किया कि हमारे सैनिकों को खुली छूट दी जाए कि वह परिस्थियों के अनुसार स्वैछिक निर्णय ले सकें। ताकि भविष्य में हमारे सैनिकों को यूँ निहत्थे अपनी जान ना गवानी पड़े।

सिटी प्रधान कालका सुनीता शर्मा ने कहा कि हम सभी भारतवासियों को अपने देशधर्म का निर्वहन करते हुए कोई चाइनीज सामान नहीं खरीदना है तथा सभी प्रकार के चाइनीज एप्प को अपने मोबाइल व कम्प्यूटरों से अनइंस्टाल करके चीन को आर्थिक मोर्चे पर गहरी चोट पहुंचाने का काम करना है। क्योंकि चाइना इन सब सामान व एप्प के जरिये हम लोगों से रुपये कमाकर उन रुपयों से हथियार बनाकर हमारे सैनिकों के खिलाफ ही इस्तेमाल करता है। चाइना को आर्थिक मोर्चे पर चोट देकर हम सभी हमारे शहीद सैनिकों के लिये एक सच्ची श्रधांजलि दे सकेंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।