कोरोना लड़ाई में योद्धा बनकर उभरे पुलिसकर्मियों का किया आभार व्यक्त|
June 18th, 2020 | Post by :- | 52 Views

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 18 जून :- कोरोना संकट के बीच फ्रंट वारियर्स के तौर पर डटे  पुलिसकर्मियों को डीएसपी हैड क्वार्टर सुनील कादियान और शहर थाना थानाध्यक्ष नायब सिंह की गरिमामयी उपस्थिति में शहर पुलिस थाना में पलवल डोनर्स क्लब ज्योतिपुंज की तरफ से आभार व्यक्त किया गया।

पलवल डोनर्स क्लब ज्योतिपुंज के मुख्य संयोजक आर्यवीर लॉयन विकास मित्तल ने सभी पुलिसकर्मियों का धन्यवाद देते हुए कहा कि देश में कोरोना वायरस का संक्रमण के बीच लोगों की सुरक्षा के लिए दिन रात तैयार खड़ा पुलिसकर्मी अपनी जान की परवाह किये बिना नियमित गश्त कर लोगों को नियमों का पालन करने का संदेश दे रहे हैं।

क्लब की सह संयोजक अल्पना मित्तल ने कहा कि लोगों की सुरक्षा के लिए सभी पुलिसकर्मी अपने परिवारों से दूर आपदा की विषम परिस्थिति मे भी अपनी पूरी निष्ठा से डटे हुए है। उनको भी अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रहने की आवश्यकता हैं। क्लब की तरफ से सभी पुलिसकर्मियों को ब्रांडेड कम्पनी के स्वास्थ्य पेय पाउडर वितरित किये गये क्योकि ये ही कोरोना की लड़ाई के असली योद्धा हैं।

कार्यक्रम में उपस्थित डीएसपी हैड क्वार्टर सुनील कादियान ने संस्था का धन्यवाद करते हुए कहा कि इस तरह के कार्यक्रमों से पुलिसकर्मियों का हौसला बढ़ता हैं। पुलिस आज जनसेवा से इतिहास रच रही है। हमे अपने अधिकारियों और जवानों पर गर्व है। उन्होंने जनता से अपील करते हुए कहा कि  संकट की इस घड़ी में  पुलिस आपके साथ हैं अतः सभी नियमों का पालन करते हुए घरों में ही रहे और सुरक्षित रहे।

कार्यक्रम में संस्था के सदस्य सुनील कुकरेजा, एम एल कथुरिया, राजीव डागर,अधिवक्ता हरि शंकर शर्मा, चंकी अरोरा, हिमांशु, यशपाल गोयल आदि ने विशेष योगदान दिया।

अन्त में थानाध्यक्ष नायब सिंह ने संस्था का धन्यवाद करते हुए कहा कि सभी पुलिसकर्मी अपने परिवार से दूर रहकर भी नियमों का पालन करा रहे हैं । आगे भी इसी ईमानदारी और मुस्तेदी से अपने कर्तव्य का पालन करते रहेंगे। इस अवसर पर अतिरिक्त थानाध्यक्ष अभय पाल, ए एस आई महेन्द्र सिंह, हैड कांस्टेबल नरेश कुमार आदि अनेक महिला एवं पुरुष पुलिसकर्मी उपस्थित रहें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।