बिजली किल्लत से लोगों में परेशानी जेई के खिलाफ रोष प्रदर्शन कर नारेबाजी की
June 18th, 2020 | Post by :- | 82 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ(गौरव शर्मा)
शहर के बालौर चौक नजफगढ रोड के साथ लगते बागवाला मोहल्ला वाल्मीकी बस्ती, कच्चा बाग व पालिका कालोनी में पिछले लंबे समय बिजली किल्लत से लोग परेशानी का सामना कर रहे है। उक्त कालोनियों के लोग बिजली के अघोषित कट की समस्या से भी इस गर्मी के मौसम में खासे परेशान है। आज पीडित स्थानीय लोगों ने मोहल्ले के मुख्य चौक पर बिजली विभाग के जेई संजय के खिलाफ रोष प्रदर्शन कर नारेबाजी की। वार्डवासियों द्वारा जब बिजली कटों से परेशान होकर बागवाले मोहल्ला के लोगों ने जेई संजय को अपनी आप बीती बतानी चाही तो उन्होंने ना केवल शिकायतकर्ताओं को धमकाया बल्कि उन्हें परेशान करने के लिए रात के समय कार्यवाही करने की धमकी भी दे डाली। जेई के व्यवहार की शिकायत एसडीओ बिजली बोर्ड को भी फोन पर की। जिसपर एसडीओ साहब ने ना केवल शिकायतकर्ता की बात सुनी बल्कि जल्द ही समाधान करवाने की भी बात की।
कालोनी वासियों कृष्ण, विपिन टाक, सन्नी, बलजीत, केवल राम, सुनील, देवेंद्र, करतार सिंह और मदरुप राठी आदि ने कहा कि इस भीषण गर्मी के मौसम में वार्ड के बागवाला मोहल्ला, कच्चा बाग व पालिका कालोनी आदि में बिजली संकट गहरा गया है। पिछले लंबे समय से बिजली के अघोषित कट लग रहे है। जिससे बिजली किसी भी समय चली जाती है। विशेषकर सुबह व शाम के समय जब घरों में महिलाएं काम करती है तो सबसे ज्यादा परेशानी होती है। बिजली ना रहने से पेयजल की समस्या ने भी विकराल रुप धारण कर रखा है। उन्होंने कहा कि रात के समय बिजली ना रहने से बुर्जुगों, महिलाओं व बच्चों को ज्यादा परेशानी झेलनी पडती है। पीडित कालोनियों में वाल्मीकी मोहल्ला जैसी इलाके में  अधिकांश लोग सफाई कर्मचारी है। जो सुबह सवेरे काम पर चले जाते है और करोना महामारी में एक योद्धा के रुप में काम करते है। जो दोपहर या रात के समय अपने घरों में  आते है तो बिजली नहीं होती तो उन्हें भारी दिक्कतों का सामना करना पडता है। उन्होंने कहा कि बिजली विभाग के उच्च अधिकारियों से जब समस्या को बताया जाता है तो वे बेहतर तरीके से सुनते है जबकि जेई संजय द्वारा समस्या बताने के बावजूद कोई सुनवाई नहीं होती और कई बार तो बात कहासुनी तक पहुंच जाती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।