भारतीय जनता पार्टी द्वारा की जा रही वर्चुअल रैलियों की कड़े शब्दों में आलोचना की :-राष्ट्रीय सचिव अजय छिकारा
June 18th, 2020 | Post by :- | 140 Views

भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव अजय छिकारा ने बयान जारी करते हुए भारतीय जनता पार्टी द्वारा की जा रही वर्चुअल रैलियों की कड़े शब्दों में आलोचना की । उनका कहना है कि जहाँ एक तरफ सम्पूर्ण मानवता आज इस कोरोना नामक भयंकर महामारी से जूझ रही है। लोग मर रहे हैं। लोगों के काम धन्धे बन्द होने के कगार पे हैं। प्रवासी मजदूरों के आशियाने उजड़ गये हैं।
वहीँ दूसरी और चीन की सेना हमारी जमीन पर कब्जा कर रही हैं हमारे 20 जवान शहीद हो गये हैं और केंद्र सरकार की कान पे जूं तक नही रेंग रही ।
उस दौर में भाजपा द्वारा एक पूर्ण रूप से फैल हो चुकी सरकार का गुणगान करना एक अमानवीयता का प्रतीक हैं।
आज सब भारत देश के समस्त नागरिक एक होक इस बीमारी से लड़ रहे हैं तोह भाजपा क्यों राजनीति ड्रामों में लगी हुई है।

इस समय कोरोना से लड़ना ज़रूरी है या BJP की राजनीति चमकाना?

आज पूरी दुनिया पर कोरोना का खतरा मंडरा रहा है। देश में लगातार असामान्य गति से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। तमाम सरकारें आज अपने नागरिकों की जान बचाने की जद्दोजहद में लगी हुई हैं, लेकिन हैरानी की बात है कि सत्ताधारी बीजेपी महामारी के इस दौर में भी अपने प्रचार का भोंपू बजाना चाहती है।

कोरोना संक्रमण से बचने के लिए केंद्र सरकार ने ऐसे तमाम राजनीतिक, सामाजिक समारोहों, सेमिनार और बैठकों पर रोक लगा रखी है जिनमें भीड़ जुटने की संभावना हो। यहाँ तक की एक ओर मौत पर 20 लोगों से ज़्यादा एकत्र होने पर प्रतिबंध है, लेकिन दूसरी ओर BJP द्वारा स्वयं के सियासी गुणगान के लिए सैकड़ों लोगों को इकट्ठा किया जाना क्या सही है?

ये वक्त लोगों की जान, उनके रोजगार और अर्थव्यवस्था को बचाने का है ना कि प्रचार का भोंपू बजाने का।

हरियाणा के मुख्यमंत्री कोरोना के संकट से लड़ने के लिए प्रदेश के छात्रों से 5 – 5 रुपये मांग रहे थे तोह आज क्यों नही इन रैलियों पर होने वाले ख़र्च को वो कोरोना महामारी से लड़ने में प्रदेश के हित मे प्रयोग कर रहे।

अजय छिकारा ने कहा कि 75 पार का नारा देकर 40 पर अटकने वाली इस सरकार को समय आने पे हरियाणा की जनता इस असंवेदनशीलता के लिए कड़ा सबक सिखाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।