मनोहर लाल खट्टर की करनी और कथनी में जमीन आसमान का फर्क: मेवात के तीन विधायक
June 17th, 2020 | Post by :- | 80 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  कुछ मीडिया चैनल व बीजेपी के साथी संगठनों द्वारा गठित किसी जांच समिति के तथ्यहीन व बेबुनियाद आरोपों के बाद
मंगलवार को प्रदेश की गठबंधन सरकार के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर मेवात आए थे, आरोप चल रहा था कि मेवात में दलितों व हिन्दू समुदाय पर अत्याचार व धर्म परिवर्तन का दबाव डाला जाता है।
मुख्यमंत्री ने मेवात, सोहना से बीजेपी के सभी उम्मीदवारों, अपने पदाधिकारियों, मनोहर सरकार के पहले कार्यकाल से जुड़े नेताओं, ज ज पा नेताओं को बुलाया था, इलाके के तीनों कांग्रेस विधायक भी बुलाए गए थे। दोनों समाज के 15- 15 लोग भी आमंत्रित थे।
एक बंद कमरे में बिना मीडिया व बिना जिले के अधिकारियों के मीटिंग हुई जिसमें शुरुवात नूह विधायक व हरियाणा कांग्रेस विधायक दल के उप नेता चौधरी आफताब अहमद ने मेवात का पक्ष रखते हुए कहा कि मेवात में भाईचारा बहुत मजबूत है, जो हजारों साल पुराना है, जो देश की एकता अखंडता के लिए जाना जाता रहा है। दलित समाज, हिन्दू समाज, मुस्लिम समाज सभी यहां अमन से रहते हैं, टीवी न्यूज़ चैनल द्वारा दिखाई जा रही बातें पूरी तरह से मनघड़ंत बातें हैं और मेवात को बदनाम करने की साज़िश है। कांग्रेस विधायक दल के उप नेता चौधरी आफताब अहमद ने विश्व हिन्दू परिषद की ओर से मेवात में हिन्दू उत्पीड़न की रिपोर्ट को ख़ारिज कर दिया और कहा इलाके में हिन्दू- मुस्लिम एक थाली में खाते हैं इसे खराब करने की साज़िश रची जा रही है, जिसे हम होने नहीं देंगे।
चौधरी आफताब अहमद ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल को कहा कि न्यूज चैनल की जवाबदेही तय करनी होगी और सरकार सुदर्शन न्यूज़ चैनल सहित अन्य आरोपी पत्रकारों पर भाईचारा खराब करने के प्रयास में कानूनी करवाई करे, मुख्यमंत्री ने भरी बैठक में कठोर करवाई का आश्वाशन दिया। लेकिन आफताब अहमद ने आज कहा कि बंद करने में मुख्यमंत्री कहते कुछ और हैं लेकिन बाहर आकर करवाई कुछ और करते हैं।
पुन्हाना विधायक पूर्व मंत्री चौ मुहम्मद इल्यास ने मीटिंग में कहा कि मेवात में भाईचारा बहुत मजबूत है, दलित की बेटी को भी सभी अपनी बेटी मानते हैं, इलाक़े के भाईचारे को खराब करने की साज़िश रची जा रही है जो सरासकर गलत है। मेवात में ऐसी कोई घटना नहीं हुई जो धर्म आधारित भेदभाव की हो या किसी धर्म विशेष पर हमले की बात हो। हम तीनों विधायक इलाके के भाईचारे के लिए हमेशा साथ खड़े हैं।
वहीं फिरोजपुर झिरका विधायक चौधरी मामन खान ने कहा कि मेवात के बारे में फैलाई जा रही सारी कहानी मनघड़ंत हैं, मीडिया व बीजेपी सरकार से जुड़े कई संगठन माहौल खराब करने का प्रयास कर रहे हैं। हमने मुख्यमंत्री से साफ कहा है कि ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो। मेवात में किसी का भी जबरदस्ती धर्म परिवर्तन नहीं किया जाता, ना दलितों या हिन्दुओं पर अत्याचार होता है। इलाका अपने अमन के लिए जाना जाता है। बीजेपी के छह सालों के मनोहर लाल सरकार में ही ऐसी झूठी अफवाएं फैली है।
तीनों विधायकों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात से पहले ही कांग्रेस जिला मुख्यालय नूह पर मीटिंग की थी और पूरी तरह से एक जुट थे, तीनों ने मुख्यमंत्री को कहा कि मेवात को बदनाम किया जा रहा है। बता दें कि तीनों विधायक मुख्यमंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस व लंच में भी शामिल नहीं हुए थे। मुख्यमंत्री की कथनी और करनी में अंतर देखकर तीनों कांग्रेस विधायक बीजेपी सरकार से बहुत नाराज़ नजर आ रहे हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।