तावडू में करंट की चपेट में आने से राष्ट्रीय पक्षी मोर की मौत राष्ट्रीय सम्मान के साथ मोर का किया गया अंतिम संस्कार
June 17th, 2020 | Post by :- | 47 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । नूह जिले के तावडू नगर में राष्ट्रीय पक्षी मोर की मौत हो गई। मौत का कारण करंट लगना बताया जा रहा है। राष्ट्रीय पक्षी की मौत के बाद उसके शव का सम्मान एवं पूरे विधि विधान से अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान जिम्मेदार अधिकारी व कर्मचारी भी मौजूद रहे। उपमंडल में पहली बार इस तरह से किसी पक्षी का सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।
मगंलवार सुबह करीब 7 बजे नगर के तावडू – रेवाड़ी रोड पर वेयरहाउस गोदाम के निकट लगे विद्युत ट्रांसफार्मर की चपेट में आने से राष्ट्रीय पक्षी मोर की मौत हो गई। इस हादसे के बाद मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। इसकी सूचना लोगों ने शहर थाना पुलिस को दी। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर वन विभाग एवं पशु चिकित्सकों को घटना की सूचना देकर अवगत कराया गया। जिसके बाद दमकल विभाग की गाड़ी मौके पर पहुंची और शव को राष्ट्रीय घ्वज में लपेट कर पोस्टमार्टम के लिए पशु अस्पताल लेकर पहुंची। इस मौके पर मौजूद पुलिस जवानों व अन्य कर्मचारियों ने मृत मोर को पुष्पांजलि अर्पित करते हुए राष्ट्रीय सम्मान के साथ सलामी भी दी।
पर्यावरण प्रेमियों ने जताई चिंता :  करंट की चपेट में आने से राष्ट्रीय पक्षी मोर की मौत को लेकर पर्यावरण प्रेमियों ने चिंता जताई हैं। उन्होंने प्रशासन से बिजली लाइनों में सुधार की मांग की है। तावडू भाजपा मंडल के पूर्व अध्यक्ष हरभगवान सिंह बिल्ला ने बताया कि बीते कुछ दिनों में कई मोर व बंदरों की करंट की चपेट में आने से मौत हो चुकी है। जिसको लेकर बिजली विभाग बेपरवाह नजर आ रहा है। उन्होंने कहा कि बिजली निगम के अधिकारियों को कई बार लटकती तारों व विद्युत ट्रांसफार्मरों के खुले फ्यूज बॉक्स के करंट प्रवाहित होने की जानकारी दी गई। लेकिन सुधार नहीं किए जाने से लगातार हादसे हो रहे हैं। मुकुट गोयल , सचिन मेहता , अजरूदीन , जाकिर , राहुल , ज्ञानीराम आदि नगरवासियों ने चिंता जताई कि यदि मोरों की इसी प्रकार अकाल मृत्यु होती रही तो राष्ट्रीय पक्षी का अस्तित्व खत्म हो जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।