चीनी सेना द्वारा एल.ए.सी. पर अतिक्रमण और भारतीय सेना पर कायराना हमले की विश्व हिंदू परिषद् ने की भर्त्सना, शहीद भारतीय सैनिकों को दी श्रद्धांजलि
June 17th, 2020 | Post by :- | 274 Views

(मनोज शर्मा) विश्व हिंदू परिषद् की चंडीगढ़ ईकाई ने चीनी सेना द्वारा लद्दाख की गलवान घाटी पर लाइन आफ एक्चुअल कंट्रोल पर अतिक्रमण और भारतीय सेना पर किए गए कायराना हमले की घोर आलोचना की है, जिसमें भारतीय सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी सहित 20 सैनिक शहीद हुए हैं और अन्य 4 की स्थिति गंभीर बनी हुई है। विश्व हिंदू परिषद् ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग करके भारतीय सेना के शहीद सैनिकों को 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की और उनकी शहादत को नमन किया।

विश्व हिंदू परिषद्, चंडीगढ़ के मंत्री सुरेश राणा ने कहा कि चीन ने भारत की पीठ पर जो खंजर घोपा है, वह उसे भारी पड़ेगा और शहीद हुए एक-एक भारतीय सैनिक का हिसाब चीन को देना होगा।
विहिप के संपर्क विभाग प्रमुख पंकज गुप्ता ने कहा की भारतीय सेना अपनी सीमाओं की रक्षा करने और हर दुश्मन को धूल चटाने के लिए पूरी तरह से सक्षम है। चीन को समझ लेना चाहिए कि भारत अब 1962 वाला भारत नहीं है और भारतीय मूल्यों और सिद्धांतों को उसकी कमजोरी समझना चीन की बड़ी भूल होगी।
बिहिप के उपाध्यक्ष देवेंद्र सिद्धू ने कहा कि विश्व भर में कोरोना वायरस की महामारी फैलाने के लिए चीन आलोचनाओं के घेरे में है और लोगों का ध्यान भटकाने के लिए ऐसी ओछी हरकत कर रहा है। उपाध्यक्ष राकेश चौधरी ने कहा की भारत को जो सामान चीन से आयात करना पड़ता है उसका उत्पादन भारत में ही करके आत्मनिर्भर बना जाए। सोशल मीडिया प्रभारी मनोज शर्मा ने लोगों से आह्वान किया कि वे चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करें।
बिहिप के कोषाध्यक्ष अनुज सहगल और सह-कोषाध्यक्ष राकेश मिश्रा ने कहा की जिस प्रकार भारतीय शूरवीरों ने बिना तैयारी के और निःशस्त्र ही असंख्य चीनी सैनिकों को मौत की नींद सुला दिया उससे चीनी सेना को अवश्य पता लग गया होगा कि उसने शेर के मुंह में हाथ डाला है। वर्चुअल मीटिंग में दिव्जिन्दर डोगरा, जितेंदर कालरा अरविंद मौर्य, विजय, गौरव जिंदल,वंशु, उपस्थित रहे और उन्होंने भी अपने विचार रखे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।