राष्ट्रीय खाध सुरक्षा योजना से जुड़े 1 करोड़ 62 लाख उपभोक्ताओं पर शिकंजा कसने की तैयारी: खाध एवम नागरिक आपूर्ति विभाग
June 14th, 2020 | Post by :- | 68 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । राष्ट्रीय खाध सुरक्षा योजना से जुड़े 33 फीसदी उपभोक्ताओं पर यानी 1करोड़ 62 लाख उपभोक्ताओं पर अब शिकंजा कसने की तैयारी शुरू हो गई है। शिकंजा कसने का कारण यह है कि इन उपभोक्ताओं का राशन कार्ड आधार से लिंक नहीं है। ऐसे में अब 31 जुलाई से पहले सभी को राशन कार्ड आधार से लिंक कराना जरूरी होगा नहीं तो उपभोक्ताओं को राशन नहीं मिलेगा। 1 अगस्त से उन्हीं उपभोक्ताओं को गेहूं मिलेगा जिनका राशन कार्ड आधार से लिंक होगा। पूरे देश में 1 जून से वन नेशन वन राशन कार्ड योजना शुरू हो गई है। इसके तहत उपभोक्ता किसी भी राज्य से राशन ले सकता है। ऐसे में अगर राशन कार्ड लिंक नहीं हुआ तो इसका फायदा उपभोक्ता को नहीं होगा।
*फर्जी उठा रहे राशन:
प्रदेश में लगातार फर्जी राशन कार्ड बनवा गेहूं उठाने और डीलरों की कालाबाजारी की शिकायतें मिल रही हैं। ऐसे में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग की ओर से कलेक्टर को भेजे गए पत्र में अंदेशा लगाया है कि 1.62 करोड़ लाभार्थियों में से कई मामले फर्जी निकल सकते हैं।
कालाबाजारी रोकने के लिए राशन की दुकानों पर 2016 में पोस मशीन से गेहूं वितरण शुरू किया था। राशन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना भी शुरू किया गया था। राशन कार्ड में शामिल प्रत्येक सदस्य को आधार कार्ड से लिंक किया जाना था लेकिन अभी तक राशन कार्ड में शामिल 33 फ़ीसदी उपभोक्ता यानी 1.62 करोड व्यक्तियों के नाम आधार से लिंक नहीं हो पाए। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग की ओर से आदेश जारी किए गए हैं की 31 जुलाई तक सभी राशन कार्डों को आधार से लिंक करवाना जरूरी है। इसके लिए संबंधित अधिकारियों को भी निर्देशित किया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।