जौनपुर। सिर्फ यादव परिवारों के घर गए सपा प्रदेशाध्यक्ष,जावेद समर्थको की उम्मीद टूटी, भदेठी कांड की जानकारी ही नहीं।
June 14th, 2020 | Post by :- | 178 Views

जौनपुर।अपने विधायक के निधन के बाद जौनपुर सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम का दौरा विवादों में आ गया है। सपा प्रदेश अध्यक्ष एक दिनी दौरे पर ज़िले में आए थे। इसके बाद वो सिर्फ ज़िले के कद्दावर यादव परिवारों के घर गए और फिर लखनऊ वापस चले गए। उनके इस दौरे पर कईयों ने सवाल उठाया कि क्या जौनपुर में सपा सिर्फ यादवों की वजह से है। दरअसल विधानसभा चुनाव में सपा की तरफ से उम्मीदवार बनाये जावेद सिद्दीकी बहुचर्चित भदेठी बवाल के मामले में जेल भेजे गए हैं। उनके समर्थकों का आरोप है कि वो बेकसूर हैं और बीजेपी ने उन्हें इस मामले में फंसाया है। पर नरेश उत्तम ने उनके लिए एक शब्द भी नहीं बोला।
सपा प्रदेश अध्यक्ष का दौरा
मलहनी से विधायक, पूर्व मंत्री व पार्टी के कद्दावर नेता पारसनाथ यादव का कल शुक्रवार को निधन हो गया था। वो काफी समय से बीमार थे। उनके निधन के बाद आज शनिवार को सपा प्रधेश अध्यक्ष नरेश उत्तम उनके घर श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। यहां उन्होंने परिवार से सदस्यों से मुलाकात की और ढाढस बंधाया। वे काफी देर तक यहां रुके।
सिर्फ यादव परिवारों के घर गए प्रदेश अध्यक्ष
सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पारसनाथ यादव के घर से निकल कर सीधे पूर्व मंत्री और शाहगंज के विधायक शैलेंद्र यादव ललई के जौनपुर शहर के आवास पर पहुंचे। यहां वो काफी देर रुके और यहीं पर उन्होंने पत्रकारों से बात की। इसके बाद वो सिकरारा चले गए। वहां पर ज़िला पंचायत अध्यक्ष राज बहादुर यादव के घर रूके। यहां से निकल पर नरेश उत्तम पूर्व विधायक ज्वाला प्रसाद यादव के घर पहुंचे। यहां कुछ देर रुकने के बाद वो लखनऊ के लिए प्रस्थान कर गए।
जावेद समर्थकों की उम्मीद टूटी
जौनपुर सदर सीट से सपा उम्मीदवार रहे जावेद सिद्दीकी के समर्थकों को उम्मीद थी कि प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम भदेठी जाकर परिवार वालों से मिल सकते हैं। यहीं नहीं समर्थकों को ये भी उम्मीद थी कि वो जेल जाकर जावेद सिद्दीकी से मुलाकात कर सकते हैं। पर समर्थकों को तब निराशा हाथ लगी जब उनका काफिला बगैर मिले जौनपुर से निकल गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।