मेवात क्षेत्र अमन का चमन , भाईचारा खराब करने की हो रही नापाक कोशिश
June 11th, 2020 | Post by :- | 203 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  हरियाणा का मुस्लिम बाहुल्य जिला नूह अमन का चमन रहा है । राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से महज 70 किलोमीटर की दूरी पर बसा यह जिला सदियों से हिंदू – मुस्लिम भाईचारे के लिए जाना जाता है । देश व दुनिया में भले ही सांप्रदायिक दंगे होते रहे हो , लेकिन इस इलाके में आज तक ऐसी कोई मिसाल नहीं है । हां इतना जरूर है कि इस इलाके के भाईचारे को तोड़ने की नापाक कोशिश एक बार नहीं बल्कि बार-बार की जा रही है । पिछले कई दशकों में तावडू , पुनहाना , फिरोजपुर झिरका शहरों में कर्फ्यू तक लगाना पड़ा है । एक बार फिर इस इलाके को बदनाम करने की पूरी साजिश रची जा रही है । जिसमें कुछ मीडिया घरानों के लोग भी अहम भूमिका निभा रहे हैं। जिले के लोग इस बात से बेहद खफा है , नाराज हैं। उन्होंने कहा कि मेवात का भाईचारा सदियों से अटूट है और इसे किसी कीमत पर टूटने नहीं दिया जाएगा। हिंदू , मुस्लिम , सिख , इसाई जिले में एक दूसरे के दुख – सुख में शरीक होते हैं। यहां पर जातिवाद – बिरादरी वाद जैसी कुरीतियां कम ही देखने को मिलती हैं , लेकिन हिंदू – मुस्लिम समाज में कुछ शरारती तत्व मौजूद हैं । जो लगातार इलाके के अमन व भाईचारे को खराब करने की जी तोड़ कोशिश करते रहते हैं ।हालांकि पुलिस प्रशासन के पास आज तक भी ऐसी कोई एफआईआर या शिकायतें नही आई हैं जिसमें कहा गया है कि हिंदू समाज के लोग एक विशेष समुदाय के आतंक की वजह से पलायन कर रहे हो या फिर उनकी बहन – बेटियों को स्कूल – कॉलेज , आते –  जाते समय किसी प्रकार की कोई दिक्कत परेशानी हो । हमने दोनों समाज के लोगों से इस बारे में पुनहाना ,  पिनगवां , नूह इत्यादि शहरों व गांवों में जाकर ग्राउंड रियलिटी जानने की कोशिश की ।बातचीत के दौरान लोगों ने कहा कि कुछ लोग हैं , जो इस इलाके के भाईचारे को देखना नहीं चाहते हैं , वही लोग किसी न किसी तरह से साजिश रच रहे हैं , लेकिन यहां पर जिस तरह के आरोप आजकल लगाए जा रहे हैं या मीडिया में खबरें प्रकाशित हो रही हैं उनमें कोई भी सच्चाई नहीं है। कुछ लोगों ने आरएसएस तथा बजरंग दल जैसे संगठनों का भी जिक्र किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।