बिजली कर्मचारियों ने अपनी समस्याओं को लेकर किया विरोध प्रदर्शन|
June 11th, 2020 | Post by :- | 108 Views

पलवल हसनपुर (मुकेश वशिष्ट) 11 जून :- बिजली कर्मचारियों की समस्याओं के समाधान ना होने व अधिकारियों द्वारा अनावश्यक रूप से उत्पीडन करने से नाराज बिजली कर्मचारियों ने गुरूवार को उपमंडल कार्यालय होडल पर प्रदर्शन करके जमकर नारेबाजी की। इस विरोध प्रदर्शन की अध्यक्षता सब यूनिट प्रधान राजवीर रावत कर रहे थे तथा संचालन सचिव प्रदीप कुमार सैनी ने किया।

कर्मचारियों के इस विरोध प्रदर्शन को सम्बोधित करते हुए सर्व कर्मचारी संघ के ब्लाक प्रधान उदयवीर सौरौत व यूनियन नेता लक्ष्मण सिंह ने बताया कि कोरोना महामारी में भी बिजली कर्मचारी अपनी जान की परवाह किए बिना लगातार जनता व निगम की सेवा में लगे हुए हैं, जबकि बिजली निगमों में कर्मचारियों की भारी कमी है। यूनियन नेताओं ने आरोप लगाया कि संकट की इस घड़ी में भी निगम के कुछ अधिकारी कर्मचारियों की समस्याओं का समाधान करने की बजाय उल्टे कर्मचारियों को मानसिक रूप से प्रताडि़त करते हैं। जबकि विभाग में सुरक्षा उपकरणों की भारी कमी है पावर हाउस के बाहर लाइनों के सर्किट स्विच व ट्रांसफार्मरों के ऊपर भी स्विच नहीं है जिन्हें काटकर काम किया जा सके।

लाइनों की हालत खराब है ठेकेदारों के द्वारा किए गए काम भी मिलीभगत से गुणवंता के मापदंडों पर सही नहीं है। जोखिम भरा काम होने के बावजूद कर्मचारियों को काम करने के लिए जरूरी उपकरण व सामान भी उपलब्ध नहीं कराया जाता है। लाईन ब्रेक डाउन होने व आवश्यक कार्यों को निपटाने के लिए उपमंडल में गाडी तक उपलब्ध नहीं है। कम वेतन लेने वाले कच्चे कर्मचारियों को अपनी जेब से खर्च करके लाईन ब्रेक डाउन जैसे जरूरी कार्य निपटाने पडते हैं। इसके बावजूद तरह-तरह के अनावश्यक आदेश जारी कर के कर्मचारियों को मानसिक रूप से प्रताडि़त किया जाता है। यूनियन द्वारा लिखित में दी गई समस्याओं के समाधान के प्रति अधिकारियों का कोई ध्यान नहीं है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर कर्मचारियों की समस्याओं का समाधान नहीं किया गया तो आन्दोलन को और तेज किया जाएगा।

प्रदर्शन कारियों को यूनियन नेता भगवान सिंह, पवन कुमार, लक्ष्मण, हरि सिंह प्रधान, शेर सिंह, नरेश महलावत, नरेश, हुकम सिंह, मोहन आदि ने भी सम्बोधित किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।