आर्थिक मंदी के शिकार हुए युवक ने फांसी लगाकर की आत्महत्या ।
June 10th, 2020 | Post by :- | 150 Views

 

लॉकडाउन के कारण आर्थिक मंदी का शिकार हुए नौजवान ने लगाई फांसी ।
 घर में ना तो कोई पैसा था और ना ही था राशन ।
 जंडियाला गुरु 10 जून (कुलजीत  सिंह) सरकारों के दांव पर प्रश्नचिन्ह लगाती हुई बड़ी दुखदाई घटना जंडियाला गुरु के नजदीक पड़ते गांव मलिया मे घटित हुई है।  गांव मलिया के एक नौजवान बलविंदर सिंह पुत्र गैहल सिंह ने  लोकडाउन के दौरान बेरोजगारी से तंग आकर फांसी लगाकर आत्महत्या  कर ली। इस विषय में जानकारी देते हुए परिवार के सदस्यों ने बताया के लॉकडाउन के चलते बलविंदर सिंह पिछले काफी समय से बेरोजगार था तथा काफी बुरे हालातों से गुजर रहा था । मृतक बलविंदर सिंह पत्नी तथा एक 9 साल का बच्चा अपने पीछे छोड़ गया है। इंसानियत को शर्मसार करने वाली बात यह है कि इस समय उसके घर में ना तो कुछ खाने के लिए राशन था और ना ही कोई पैसा था।  यह खुद्दार इंसान काम की तलाश में काफी दिनों से दौड़-धूप कर रहा था। काम ना मिलने के कारण वह बेहद परेशान था । यही कारण है कि उसने घर में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।
 क्या कहते हैं पुलिस अधिकारी ?
 एस एच ओ जंडियाला गुरु उपकार सिंह ने बताया के यह नौजवान बेरोजगारी के कारण दिमागी तौर पर काफी परेशान था । इसी लिए मृतक बलविंदर सिंह ने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है । उनके द्वारा लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है । उसके बाद अगली कार्रवाई की जाएगी।
 इलाके में इस बात की विशेष तौर पर चर्चा है कि सरकार और प्रशासन द्वारा लोगों को घर-घर जाकर राशन देने के सभी दावे  की यही सच्चाई है ? अगर लोग भुखमरी से परेशान होकर यूं ही आत्महत्या करने लगेंगे और पुलिस ऐसे ही रटे रटाये जवाब देकर अपना पल्लू झाड़ने लगेगी, तो समाज का क्या हाल होगा।
 कैप्शन :–     (1)  मृतक बलविंदर सिंह के मृतक  शरीर के पास जांच करते हुए पुलिस अधिकारी।
                   (2)  विरलाप करती हुई औरतें।
                   (3) मृतक की फाइल फोटो।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।