जन स्वास्थय विभाग की लापरवाही के कारण काूननगोयन मौहल्ले के लोग बूंद बूंद पानी को तरसे :- अजय प्रताप सिंह
June 9th, 2020 | Post by :- | 168 Views

एसडीओ ने कहा-मेरे पास वर्कलोड बहुत है सोमवार से पहले शिकायत नही सुन सकता

आनलाइन शिकायत करने पर विभाग ने बिना कार्यवाही लिखकर भेज दिया शिकायत दूर कर दी गई है

पलवल हसनपुर (मुकेश वशिष्ट) 09 जून :- पलवल के कानूनगोयन मौहल्ले में इन दिनो पीने के पानी की भारी किल्लत हो गई है। आलम यह है कि भरी गर्मी में मौहल्ले के लोगों को बाजार से पीने का पानी खरीदना पड रहा है और अन्य कामो के लिए घर की महिलाए एक किलोमीटर दूर से पानी भर कर ला रही है। मौहल्ले के लोगों ने इसकी शिकायत कई बार जनस्वास्थय विभाग से की है परन्तु विभाग से कर्मचारी आते है , मौका देखते है और बिना कोई कार्यवाही किए चले जाते है।

लोगों ने जब एसडीओ से शिकायत की तो उन्होने कहा कि मै सोमवार से पहले आपकी शिकायत नही सुन सकता क्योकि मेरे पास वर्कलोड बहुत ज्यादा है। इसके बाद मौहल्ले वाले विधायक दीपक मंगला के पास गए उन्होने विभागीय प्रमुख को फोन किया तो दो दिन पानी आ गया उसके बाद फिर वही ढाक के तीन पात। इसके बाद मौहल्ले के लोगों ने आन लाइन चंडीगढ तक शिकायत भेजी, शिकायत मिलने के बाद मौहल्ले में विभाग से जेई व फोरमोन आए बिना कोई कार्यवाही किए चले गए और चंडीगढ लिखकर भेज दिया कि शिकायतकर्ता की शिकायत दूर कर दी गई है , अब वो संतुष्ट है। मौहल्ले के लोगों की जब कही सुनवाई नही हुई तो हारकर लोग मिडिया तक पहुंचे। हमने जेई से जवाब मांगा तो उन्होने बताया कि लोहागढ जहंां से इस मौहल्ले में पानी आता है वहां अंडरग्राऊंड बिजली की तार डाली जा रही है इसलिए शनिवार तक पानी की दिक्कत रहेगी। तब तक मौहल्ले वाले क्या करे इस बारे विभाग के पास कोई जवाब नही है।

दरअसल पलवल के ढेर मौहल्ले में पानी की टंकी लगी हुई है और ये मौहल्ला ऊचाई वाले क्षेत्र में है। इसलिए पानी की टंकी से पानी नीचले मौहल्ले कानूनगोयान तक जाता है जहां मंदिर के पास वाल्व लगा हुआ है। इस वाल्व को बंद करने के बाद पानी रिवर्स होकर ऊचाई पर जाता है जिससे कानूनगोयान मौहल्ले को पानी मिलता है। समस्या इसी वाल्व से पैदा होती है। कायदे से वाल्व मंदिर के पास नही बल्कि प्रकाश मंगला के घर के पास होना चाहिए था परन्तु विभागीय लापरवाही से वाल्व मंदिर के पास लगा दिया गया। जिस कारण 12 मास इस मौहल्ले के करीब 25-30 परिवार सफर करते है। अगर ये वाल्व मंदिर से हटाकर प्रकाश मंगला के घर के पास विभाग लगा दे तो समस्या पूरी तरह हल हो सकती है परन्तु विभाग में इच्छा शक्ति की कमी के कारण समस्या हल ही नही हो पा रही है।

मौहल्ला निवासी पुनीत शर्मा ने बताया कि उन्होने खुद एसडीओ राजबीर से शिकायत की तो उन्होने कहा कि मेरे पास वर्कलोड बहुत है इसलिए सोमवार से पहले मै आपकी समस्या का समाधान नही कर सकता। हरिओम बंसल ने बताया कि उन्होने चंडीगढ आनलाइन शिकायत करी थी उसके बाद विभाग के फोरमैन मौके पर आए सबकुछ देखकर चले गए और चंडीगढ रिपोर्ट पेश कर दी कि शिकायतकर्ता अब संतुष्ट है जबकि मै आज तक संतुष्ट नही हुआ हूं। ऐसी ही शिकायते राकेश राणा, विशाल ठाकुर, सियाराम, नरेन्द्र, ओम प्रकाश, योगेश राणा, चुन्नी ठाकुर, अमरपाल, देेवेन्द्र , हरीश आदि ने की है और बताया है कि हम लोग विधायक दीपक मंगला से भी गुहार लगा चुके है परन्तु वे भी इस समस्या को लेकर गंभीर नही है।

पिछले 20 दिन से हम लोग पानी एक एक बूंद को तरस रहे है और बाजार से पीने का पानी खरीदकर पी रहे है। मौहल्ले की महिलाए एक किलोमीटर दूर से पानी भर कर ला रही है। जब हमने कहा कि बिजली की लाइन डालने से समस्या हुई है जल्द ठीक हो जाएगी के जवाब में लोगों ने कहा कि लाइन तो आज डल रही है हमारी समस्या तो हर साल खडी रहती है।

दूसरी तरफ विभाग के जेई वेद प्रकाश ने फोन पर बताया कि लोहागढ से इस मौहल्ले में पीने का पानी आता है और इन दिनो वहां अंडरग्राऊंड बिजली की तारे डाली जा रही है जिस कारण सप्लाई को बंद करना हमारी मजबूरी है। तीन चार दिन का और काम है उसके बाद समस्या हल हो जाएगी। उन्होने बताया कि मै ट्रांसफर होकर अभी सप्ताह भर पहले ही पलवल आया हूं मुझे वाल्व के बारे में पता नही है अगर वाल्व बदलने से समस्या हल होती है तो वे वाल्व को बदलने का भी प्रयास करेगे। दूसरी तरफ विधुत विभाग के एक्सईएन शिवराज सिंह ने बताया कि लोहागढ में बिजली की तारे अंडरग्राऊंड डाली जा रही है तीन चार दिन का हमारा काम बाकी है। एसडीओ ने शिकायतकर्ता को कैसे मना कर दिया ये जानने के लिए हमने एसडीओ को फोन लगाया तो उन्होने हमारा फोन नही उठाया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।