नशीली गोलियों के पकड़े जाने के मामले में पुलिस प्रशासन और ड्रग विभाग पर उठे स्वाल ,आखिर कहाँ से आती इतनी नशीली गोलियां बनी पहेली
June 9th, 2020 | Post by :- | 147 Views
नशीली गोलियों के पकड़े जाने पर  पुलिस प्रशासन और ड्रग इंस्पेक्टर की कारगुज़ारियों पर उठे सवाल ,

 आखिर कहां से आती हैं इतनी गोलियां बनी बुझारत ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
कुछ मामलों में पुलिस द्वारा नशीली गोलियां पकड़ी जाती है और आरोपी पर एन डी पी एस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर उसे जेल भेज दिया जाता है लेकिन इस मामले की बहुत कम जांच की जाती है कि आखिर यह नशीली गोलियां कौन से मेडिकल स्टोर से खरीदी गई यह जांच में शामिल नही किया जाता ।अभी कल जंडियाला गुरु पुलिस द्वारा मनदीप सिंह पुत्र बलदेव सिंह निवासी गांव भंगवा थाना जंडियाला गुरु के खिलाफ एन डी पी एस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया ।लेकिन जंडियाला पुलिस ने इस बात की जांच नही की गई यह  नशीली गोलियां उसने किस मेडिकल स्टोर या व्यक्ति से  खरीद की ।इन जांच में कमी की वजह से जो बड़े बड़े नशीली गोलियों के थोक के व्यापारी बच जाते है ।
इस मामले में एस एच ओ जंडियाला गुरु इंसपेक्टर उपकार सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस मामले की जानकारी जांच अधिकारी को होगी ।
इसी तरह सेहत विभाग में जो जिले का ड्रग इंस्पेक्टर होता है उसकी ड्यूटी के अनुसार उसके इलाके के तहत आने वाले मेडिकल स्टोर की हर माह  चैकिंग  करना होता है  और इस बात को भी यकीनी बनाना होता है कि उसके इलाके के अंतर्गत मेडिकल स्टोर नियमों की पालना कर रहें हैं कि नही जैसे शैड्यूल एच ड्रग की बिक्री केवल डिग्री होल्डर डॉक्टर की पर्ची पर अनिवार्य है  इसी तरह नशे की गोलियां की बिक्री मनोवैज्ञानिक डॉक्टर की पर्ची की फ़ोटो कापी के साथ स्टॉक का रिकॉर्ड भी रखना होता है कि उसके पास कितनी गोलियां किस डॉक्टर की पर्ची पर दी गई औऱ उसके पास इस बिक्री के बाद कितना स्टॉक बचा है लिखित होना चाहिए।
लेकिन जंडियाला गुरु और इसके आसपास क्षेत्रों में ड्रग विभाग के इंस्पेक्टर द्वारा अभी तक चेकिंग नही की गई कि नशीली गोलियों की बिक्री को नकेल डाली जा सके ।
इस मामले में जिला ड्रग इंस्पेक्टर अमरपाल सिंह मल्ली से बात की गई तो उन्होंने ने कहा कि वह जंडियाला गुरु और इसके आसपास क्षेत्रों में गहनता के साथ जांच की जाएगी जो भी इस मामले में दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ विभाग कार्रवाई करेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।