“संजय अरोड़ा” ने गीत/संगीत की दुनिया में किया प्रदेश व गाँव का नाम रोशन|
June 9th, 2020 | Post by :- | 287 Views

“ज़िन्दगी कर फैसला”  गायक- उदित नारायण व लेखक –  संजय अरोड़ा,

हरियाणा पलवल (मुकेश वशिष्ट) 09 जून :- उदित नारायण के आने वाले गीत के बोल हैं ! जो हरियाणा के गाँव व उपतहसील हसनपुर जिला पलवल हरियाणा के रहने वाले संजय अरोडा ने लिखे हैं ! कुछ अंश यहाँ पेश कर रहे हैं !

इस गीत को लेकर  उदितनारायण से दूरभाष पर बातचीत के कुछ अंश :-

सवाल :- उदित सर सबसे पहले ये बतायें, आपने हज़ारों गीत गाये हैं, आपको कैसा फील हुआ आपके पास जब ये गाना आया|

ज़बाब :– देखिये मेरे बरसों पुराने मित्र हैं संजय अरोडा, एक दिन हम दोनों डिनर करके घर लौट रहे थे तो संजय ने मुझे इस गीत के बोल सुनाये और उदित जी आपको ये गाना गाना है, जैसे ही मैंने बोल सुनें सीधा मेरे दिल में उतर गये और मैंने तुरन्त गाने के लिए हाँ कर दिया !

सवाल :-  आपने लगभग सारे बड़े स्टार के लिए प्लेबैक सिंगिंग किया है और आप रोमांटिक सांग्स के जादूगर रहे हैं, एक अलग टाइप का गाना जब आप गा रहे थे तो आपकी पहली प्रतिक्रिया क्या थी !

सवाल :- मेरे लिए वाकई एक अलग तरीके का अनुभव रहा,  क्यूंकि इस तरहा की पोएट्री कम सुनने को मिलती है और बहुत लाजवाब तरीके से संजय अरोड़ा ने इसको लिखा है और बहुत ही बेहतरीन तरीके से सत्या मानिक अफसर ने इसकी धुन बनाई है  !

सवाल :- पूरी दुनियां आज बहुत मुश्किल के दौर से इस वक़्त गुज़र रही है, आप क्या कहना चाहेंगे  !

मैं इतना कहना चाहूंगा धैर्य रखें, ये इम्तिहान की घड़ी है, यही गीत गीत के बोल भी हैं

ज़िन्दगी कर फैसला,

टूटता है हौसला,

मैं कहाँ जाऊं बता,

खो गया है है रास्ता,

मंज़िलें खामोश हैं|

है गमों का सिलसिला,

तू मेरी परछाई है,

तुझसे दिल है पूछता !

हमको इस चुनौती को स्वीकार करके आगे बढ़ना है सबको एक दूसरे का सहयोग करना है, तभी हम इस चुनौती से बाहर आ पाएंगे  !

इस गीत के लेखक भाई संजय अरोड़ा से पुछे गए कुछ सवाल :- 

सवाल :- सर ग्रामीण पृष्ठ भूमि से मायानगरी मुंबई तक सफ़र कैसे सम्भव हों पाया,

सवाल :- मेरी कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है, बचपन का शौक कब प्रोफेशन में तब्दील हो गया पता ही नहीं चला,  बस अचानक मुंबई आना हुआ, काफ़ी ज़द्दो ज़ेहद के बाद काम की शुरुआत हो गयी, इससे पहले भी मेरा एक एलबम “साईं को चाहा साईं को पूजा” रिलीज़ हो चुका है, जिसको लोंगों ने काफ़ी सराहा|

सवाल :- संजय इस गीत के बारे में बतायें  ऐसा लगता है जैसे आज के परिवेश को मद्देनज़र रखके लिखा गया है

सवाल :- ये गीत हमने जनवरी में रिकॉर्ड किया था, तब ऐसी कोई सिचुएशन नहीं थी, जैसे ही गीत पूरी तरहा बनके तैयार हुआ, लॉक डाउन जैसी स्तिथि बनती चली गयी ! अब ये गीत सुनके मुझे भी लगता है जैसे आज के हालात को ध्यान में रखकर लिखा गया हो, मगर लिखते वक़्त ऐसी कोई बात नहीं थी,

दर्शकों से गुज़ारिश है, इस  गीत को सुनें, अपने प्यार से नवाजें

इस हफ्ते ये गीत leit motif records पर रिलीज़ हो रहा है, इसे Leit Motif Records और CCA Entertainment ने produce किया है|

आप इसे यूट्यूब, ऐमज़ॉन म्यूजिक, सावन, जियो पर भी सुन सकते हैं !

https://gaana.com/song/zindagi-kar-faisla :—

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।