हिन्दुओं पर हो रहे अत्याचार को लेकर हिन्दु संगठनों के पदाधिकारियों ने की बैठक|
June 8th, 2020 | Post by :- | 65 Views

पलवल हसनपुर (मुकेश वशिष्ट) 08 जून :-  मेवात क्षेत्र में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार के विरोध में  विश्व हिंदू परिषद जिला पलवल द्वारा संस्था के होडल नगर संयोजक लक्ष्मण बजरंगी के कृष्णा कॉलोनी स्थित आवास पर बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक को मुख्य वक्ता के रूप में मुकेश खांडेकर इंद्रप्रस्थ क्षेत्रीय संगठन मंत्री ने संबोधित किया तथा बैठक की अध्यक्षता प्रेमशंकर प्रांत संगठन मंत्री हरियाणा ने की जबकि संचालन विश्व हिंदू परिषद पलवल जिला अध्यक्ष धीरज मंगला ने किया।

इसके अतिरिक्त साहिल वालिया विभाग संगठन मंत्री फरीदाबाद, जगमोहन गोयल अध्यक्ष मार्किट कमेटी होडल, वीरेंद्र पाल सिंह जिला मंत्री, पोहप सिंह उपाध्यक्ष ने भी अपने बैठक में अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में कोरोना वायरस के चलते सामाजिक दूरी तथा मास्क पहनने संबंधी सरकार के दिशा-निर्देशों का पूर्ण रुप से पालन किया गया। सर्वप्रथम  प्रवक्ता विष्णु गौड़ ने बैठक में मेवात क्षेत्र में रह रहे हिंदुओं की समस्याओं को विस्तार से रखा। मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए मुकेश खांडेकर ने कहा कि हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों का मुख्य कारण धर्मांतरण तथा पलायन की समस्या है। उन्होंने कहा कि हिंदू समाज में संगठन की बहुत अधिक आवश्यकता है।

यदि हम संगठित होंगे तो कोई भी व्यक्ति  हमारा अहित नहीं कर सकता। उन्होंने महाराणा प्रताप वीर शिवाजी तथा स्वामी विवेकानंद आदि महापुरुषों का उदाहरण देते हुए कहा कि जीवन में संघर्ष के बिना उद्देश्य की प्राप्ति नहीं हो सकती।  बैठक अध्यक्ष प्रेम शंकर ने कहा कि हिंदू समाज के लोगों पर हो रहे अत्याचारों को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा उन्होंने कहा कि विश्व हिंदू परिषद का प्रतिनिधि मंडल प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल को  मेवात क्षेत्र में रह रहे हिंदुओं की समस्याओं से अवगत कराएगा। बैठक में श्रीराम सेना, बजरंग दल आदि हिंदू संगठनों के पदाधिकारियों ने भी भाग लिया। इस अवसर पर योगेश सौरोत, बालमुकंद, कृष्ण कुमार, अनिल कौशिक, मेघ श्याम, रूपेश शर्मा राजेश, खेमचंद, लोकेश सिंगला, महेश गौड़ आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।