अतिरिक्त उपायुक्त ने ली जिला के सभी बैंक प्रबंधकों की बैठक
June 8th, 2020 | Post by :- | 188 Views

नांगल चौधरी (वीरेंद्र सिंह जाजम) । सभी बैंक प्रबंधक यह सुनिश्चित करें कि उनके परिसर में सरकार द्वारा कोविड-19 के संबंध में जारी की गई सभी गाइडलाइन की पालना हो। इसके लिए सभी बैंक प्रबंधक अपनी जरूरतों के हिसाब से ऐसा उपाय करें कि एक बार में अधिक ग्राहक एकत्रित ना हो। ये निर्देश अतिरिक्त उपायुक्त डॉ मुनीश नागपाल में आज डीआरडीए के मीटिंग हाल में सभी बैंक प्रबंधकों को सोशल डिस्टेंसिंग के संबंध में बुलाई गई एक बैठक में दिए।

एडीसी ने कहा कि कई बैंकों के सामने 10 तारीख तक ज्यादा भीड़ होने की सूचना मिल रही है। इन दिनों में पेंशनरों व सैलेरी वाले खाताधारक ज्यादा होते हैं जिस कारण भीड़ होती है। ऐसे में सभी बैंक प्रबंधक इन 10 दिनों के दौरान विशेष प्रबंध करें। इसके लिए वे टोकन व्यवस्था भी कर सकते हैं ताकि ग्राहक अपने समय पर ही बैंक में पहुंचे।

उन्होंने निर्देश दिए कि अगर बैंक के बाहर ज्यादा भीड़ रहती है तो उनके बैठने की व्यवस्था बैंक प्रबंधक करें ताकि वे आराम से बैठ कर अपनी बारी का इंतजार करें। इस तरह बैंक में भीड़ को कम किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि अभी तक सभी बैंकों की तरफ से अच्छा कार्य किया गया है। इसे आगे इसी तरह से जारी रखना है। अब जिले में रोजाना कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। ऐसे में हम सबकी अब और भी अधिक जिम्मेदारी बढ़ रही है। हमें पहले से अधिक सतर्क रहना होगा। उन्होंने कहा कि अगर आप सुरक्षित रहेंगे तो और भी सुरक्षित रहेंगे।

उन्होंने कहा सोशल डिस्टेंसिंग की पालना हर हाल में होनी चाहिए। साथ ही बैंक प्रबंधक यह भी सुनिश्चित करेंगे कि कोई भी ग्राहक बिना मास्क के बैंक में न आए। एडीसी ने कहा कि अभी तक उन्होंने भी कई बैंकों का दौरा किया है। वहां पर सैनिटाइजर व मास्क आदि की व्यवस्था तो बेहतरीन ढंग से हो रही है लेकिन कई बैंकों में अधिक भीड़ होने के कारण सोशल डिस्टेंसिंग रखने में परेशानी हो रही है। ऐसे में सभी बैंक प्रबंधक यह सुनिश्चित करें कि उनके गार्ड के अलावा एक अन्य कर्मचारी भी बैंक के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करवाने के लिए तैनात रहे। इस मौके पर लीड बैंक मैनेजर दिनेश प्रभु के अलावा अन्य अधिकारी भी मौजूद थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।