ओट सेंटर मानांवाला में सोशल डिस्टेंस की उड़ी धज्जियां ।
June 8th, 2020 | Post by :- | 152 Views

ओट सेंटर मानांवाला और एस बी आई बैंक के बाहर उड़ी सोशल डिस्टेंस की धज्जियां ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
अमृतसर जिले में क्रोना के मरीजों की गिनती लगातार बढ़ती जा रही है जो कि चिंता का विषय है ।इससे बचाव का सबसे बेहतर तरीका है सोशल डिस्टेंस का । सरकार द्वारा समय समय पर लोगों को सोशल डिस्टेंस की पालना और मास्क का प्रयोग करने की हिदायत दी जा रही है ।लेकिन बावजूद इसके लोंगो द्वारा सोशल।डिस्टेंस की पालना ना कर कम्युनिटी स्प्रेड को बढ़ावा दे रहें है ।जिसकी ताज़ा मिसाल मानांवाला के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और कम्युनिटी हेल्थ सेंटर मानांवाला के ओट सेंटर में दिखाई दी ।बैंक के आगे भी लोगों की भीड़ जमा थी ,बता दे कि भले ही बैंक द्वारा परिसर के बाहर सोशल डिस्टेंस को बरकरार रखने के लिए गोल चक्कर बनाये गए थे ।लेकिन लोगों की भीड़ बैंक के गेट के आगे थी जो सोशल डिस्टेंस की धज्जियां उड़ा रही थी ।
इसी तरह कम्युनिटी हैल्थ सेंटर मानांवाला के ओट सेंटर में आज करीब 300 लोंगो की भीड़ थी ।इस भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस के कर्मी भी खड़े थे लेकिन वह भी क्रोना नियमों की धज्जियां उड़ा रहे थे जिनमें कुछ ने मास्क नही पहने थे। जबकि वह मौजूद इंद्रजीत सिंह पूर्व सरपंच बंडाला ने कहा कि यहाँ का स्टाफ लोगों को बहुत खराब करता है जो लोग सुबह से दवाई लेने आते हैं उन्हें शाम हो जाती है। इनमे ज्यादातर लोग दिहाड़ीदार और मजदूर हैं जो आर्थिक रूप से कमजोर होते हैं ।
बावजूद इसके उनका विभाग द्वारा समय खराब किया जाता है ।उन्होंने ने कहा कि उनको 21 दिन की कम से कम दवाई देनी चाहिए ।
इस मामले को लेकर जब कम्युनिटी हैल्थ सेंटर मानांवाला के एस एम ओ डॉक्टर निर्मल सिंह से बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई।इसके इलावा लोगों को सोशल डिस्टेंस की पालना करने के लिए जागरूक भी किया जाता है। इसलिए कि क्रोना के खिलाफ लड़ी जा रही जंग जीती जा सके लेकिन लोग फिर भी नही मानते ।21 दिन की दवाई के मामले उन्होंने ने कहा कि अब सरकार द्वारा ऑर्डर बदल कर ज्यादा से ज्यादा सप्ताह की दी जा सकती है ।सप्ताह के देने के लिए भी मनोवैज्ञानिक डॉक्टर का लिखा होना अनिवार्य है ।वैसे ओट सेंटर द्वारा 2 या 3 दिन की दवाई दी जाती है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।