मेवात _ तेड सटकपुरी बूचड़खाने में कोरोना बम फूटा _ सील होने के बजाय धड़ल्ले से चल रही मीट फैक्ट्री
June 7th, 2020 | Post by :- | 50 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  । नूह जिले के सटकपुरी गांव में नियमों को ताक पर रख फेयर एक्सपोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड मीट फैक्ट्री धड़ल्ले से चल रही है । शनिवार को एक साथ 8 कोरोना पॉजिटिव केस पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने इस कंपनी को सील कर पॉजिटिव लोगों को कंपनी में ही आइसोलेट करने की बात पत्रकारों के सम्मुख कही , लेकिन रविवार को जब कंपनी का दौरा किया गया तो आम दिनों की तरह कंपनी का कामकाज बिना रोक टोक चलता मिला । कंपनी पर न तो कहीं सील नजर आ रही थी और ना ही कंपनी के बाहर स्वास्थ्य विभाग ने कोई बोर्ड वगैरा लगाया हुआ था । कंपनी के अंदर सैकड़ों कर्मचारी रोजाना की तरह पशु काटने , भवन निर्माण इत्यादि काम कर रहे थे , तो बाहर भी उसी तरह से भीड़ जमा थी। जैसे आम दिनों में देखने को मिलती है। कंपनी के द्वार खुले होने की वजह से कर्मचारियों को बाहर से अंदर आने – जाने का आवागमन हो रहा था । कुल मिलाकर कोरोना बम फूटने के बाद भी कंपनी प्रबंधन नियमों को ताक पर रख कोरोना के संक्रमण को फैलाने का काम कर रहा है । हद तो तब हो गई जब कंपनी की इस मनमानी के खिलाफ जिला प्रशासन कतई भी सख्त नजर नहीं आ रहा है । कंपनी के खिलाफ न केवल कोरोना फैलाने का केस दर्ज होना चाहिए , बल्कि इस कंपनी पर सख्ती से सील भी लगनी चाहिए । दूसरी बात यह है कि कंपनी में सैकड़ों कर्मचारी काम करते हैं । इन कर्मचारियों में बाहर के राज्यों के अधिकतर कर्मचारी हैं । जिनके बाहर आने – जाने का सिलसिला लगातार जारी है । इसके अलावा कंपनी से रोजाना मीट लेकर बड़े – बड़े एसी कंटेनर दिल्ली सहित देश के बड़े – बड़े शहरों के लिए आते – जाते रहते हैं । डॉक्टरों के मुताबिक पॉजिटिव लोगों को कंपनी में ही आइसोलेट किया गया है , बाकि लोगों को एकांतवास में रखा गया है । लेकिन कंपनी में ना तो कोई एकांतवास में दिखाई दिया , बल्कि कंपनी में निर्माण का कार्य भी धड़ल्ले से चल रहा है । स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक जो 8 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं । उनके कांटेक्ट में बड़ी संख्या में लोग आए हैं । उन सभी का सैंपल रविवार को लेने का सिलसिला जारी रहा । कुल मिलाकर फेयर एक्सपोर्ट्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में बड़ी संख्या में कोरोना वायरस फैल चुका है। खास बात यह है कि राष्ट्रीय राजधानी तक भी इस कंपनी से संक्रमण फैलने से इनकार नहीं किया जा सकता। क्योंकि कई बड़े संस्थानों को इस मीट फैक्ट्री से मीट सप्लाई किया जाता है । डिप्टी सिविल सर्जन एवं जिला नॉडल अधिकारी डॉ अरविंद कुमार ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा की कंपनी में केस मिलना चिंता का विषय है , क्योंकि कंपनी में सैकड़ों कर्मचारी काम करते हैं । उन्होंने कहा कि कंपनी को सील कर दिया है । इसके अलावा इसके लिए कंपनी एवं उसके आसपास के इलाकों में मास्क तथा सैनिटाइजर इत्यादि  वितरण का काम जल्दी ही किया जाएगा ।डिप्टी सिविल सर्जन ने कहा कि एहतियात के तौर पर जो जरूरी कदम उठाए जा सकते हैं वह उठाए जा रहे हैं । उन्होंने माना कि कम्युनिटी ट्रांसमिशन अब धीरे -धीरे सामने आ रहा है । उन्होंने यह भी कहा कि कंपनी में जो लोग संक्रमित मिले हैं । उनका संबंध दूसरे राज्य से हैं , जबकि एक व्यक्ति का संबंध पड़ोसी गांव तेड से है । कुल मिलाकर स्वास्थ्य विभाग भले ही कंपनी पर सख्ती दिखाने व कंपनी को सील करने की बात कह रहा हो , लेकिन धरातल पर ऐसा कुछ दिखाई नहीं दे रहा है । कंपनी कोरोना केस मिलने के बावजूद भी कोरोना फैलाने में जुटी हुई है । अब देखना यह है कि बार – बार लापरवाही बरत रही मीट कंपनी के खिलाफ जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन किस तरह की कार्रवाई अमल में लाता है । डिप्टी सिविल सर्जन ने यह भी कहा कि कंपनी परमिशन से चल रही थी या बिना परमिशन के चल रही थी यह काम जिला प्रशासन का है । उनको देखना है कि कंपनी के खिलाफ क्या कार्रवाई की जा सकती है । कुल मिलाकर सटकपुरी बूचड़खाना ने जिले में कोरोना फैलाने का काम किया है । ऐसे में इस कंपनी के खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई अमल में लाए जाने चाहिए , तभी जाकर जानलेवा कोरोना महामारी को रोका जा सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।