पुरूषों के लिए पुरूष आयोग का किया जाए गठन: डा. अंजना सोनी
June 7th, 2020 | Post by :- | 170 Views

भिवानी  :     जिस प्रकार से उत्पिडि़त महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए संविधान में महिला आयोग का गठन किया हुआ है उसी प्रकार से निद्रो पुरूषों को न्याय दिलाने के लिए पुरूष आयोग का गठन किया जाना चाहिए। जब मामला महिला और पुरूष के बीच का हो तो उससे सुलझाने के लिए दोनों आयोगों का होना बहुत जरूरी है।

अधिकत्तर महिलाएं महिला आयोग का नाजायज फायदा उठाकर निर्दोष पुरूषों को सजा दिला देती हैं इसलिए पुरूष का पक्ष या उसे न्याय दिलाने के लिए पुरूष आयोग का गठन किया जाए। जब एक पुरूष और एक औरत में सम्बंध आपसी रजामंदी से बनते है तो फिर एक पुरूष को ही सजा क्यों। यह बात राष्ट्रीय बाल और महिला विकास आयोग की राष्ट्रीय अध्यक्ष अन्जना सोनी ने आज यहां व्यक्त की। उन्होंने कहा कि हमारे देश में यह यह कानून बिलकुल गलत है। महिलाओं के प्रति जो कानून बनाए गए हैं अधिकतर महिलाएं उन कानूनों का गलत इस्तेमाल करती हैं। उन्होंने कहा कि जब एक पुरूष महिला की सभी जरूरते पूरी करता हैं तो वह उस महिला को अच्छा लगता है जब वह उस महिला की ईच्छाओं की पूर्ति नहीं कर पाता है तो वह महिला उसकी शिकायत दर्ज करवाने पुलिस थाने या महिला आयोग में पहुंच जाती है और उस पुरूष को सजा दिलवाने में भरसक प्रयास करती है। उन्होंने कहा कि पुरूष यह नहीं समझ पाता है कि यह मुसीबत उसी के कारण आई है वह अपने ही जाल मेें खुदबखुद फंस जाता है। पुलिस पुरूष को पकड़ लेती है और उसकों सजा दिलवाती है। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में स्त्री व पुरूष दोनों की ही भागेदारी होती है फिर सजा पुरूष को ही क्यों दी जाती है। सजा दोनों को सजा देनी चाहिए।

उन्होंने प्रदेश व केंद्र सरकार से मांग करते हुए कहा कि पुरूषों को न्याय दिलाने के लिए पुरूष आयोग का गठन किया जाए  सरकार को इसमें थोड़ा सा स्टंट लेना चाहिए। सरकार को चाहिए कि वे सभी जांच करके ही सजा दे न कि किसी एक के कहने पर।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।