मेवात पेयजल विभाग द्वारा पाइप लाइन दबाने के लिए खोदा गया मार्ग बना ग्रामीणों के लिए मुसीबत का सबब|
June 7th, 2020 | Post by :- | 118 Views

बरसातों में हालात बद से बदतर, नही हो पा रही कहीं भी कोई सुनवाई|

पलवल हसनपुर (मुकेश वशिष्ट) 07 जून :- हसनपुर यमुना नदी से मेवात में पेयजल लाइन दबाने के लिए तोडा गया घसैडा-नखरौला रोड पिछले एक साल से अपनी बदहाली पर आसूं बहा रहा है। नूंह मेवात पेयजल विभाग ने मार्ग पर छह से सात फुट गहराई में पाइप लाइन दबाने के बाद मार्ग को यों ही टूटा छोड दिया जो कि ग्रामीणों के लिए मुसीबत का कारण बना हुआ है।

ग्राम पंचायत घसैडा ने कई बाद मेवात पेयजल विभाग व स्थानीय संबंधित विभागीय अधिकारियों के समक्ष गुहार लगाई है, लेकिन अधिकारियों के कानों पर जूं तक नहीं रैंगती। कुछ बूंदे पडते ही इस रोड की हालत इस कदर बदतर हो जाती है कि यहां से ग्रामीणों का पैदल निकलना भी दुलर्भ हो जाता है। संबंधित विभागीय अधिकारियों की इस ओर अनदेखी के कारण ग्रामीणों में उनके प्रति रोष व्याप्त है।

नूंह मेवात पेयजल विभाग ने 2019 में हसनपुर यमुना नदी से नूंह मेवात में पेयजल आपूर्ति के लिए घासेडा-नखरौला रोड को तोडकर छह से सात फुट नीचे गहराई में पेयजल लाइन दबाई थी। मेवात पेयजल विभाग ने अपना कार्य पूरा होने के बाद सडक को ठीक कराए बगैर ही अधूरे में छोड दिया जो कि ग्रामीणों के लिए मुसीबत बन गई। सडक़ टूटी होने के कारण यहां आए दिन गड्ढों में बरसात का पानी जमा हो जाता है जिसके कारण् आए दिन दोपहिया वाहन चालक इन गड्ढों में गिरकर घायल हो जाते हैं।

इसके अलावा हल्की से बरसात आने पर ही इस मार्ग से ग्रामीणों का पैदल निकलना भी दुलर्भ हो जाता है। गांव घासेडा के सरपंच हंसराज ने बताया कि उन्होंने कई बार मेवात पेयजल विभाग के अधिकारियों से इस मार्ग को बनाने की शिकायत की है, लेकिन उनके कानों पर जूं तक नहीं रैंगती। उन्होंने बताया कि उन्होंने इस मार्ग से संबंधित मार्केटिंग बोर्ड के अधिकारियों से भी इसकी शिकायत की, लेकिन वहां भी उनकी कोई सुनवाई नहीं की गई। उन्होंने बताया यह मार्ग ग्रामीणों के लिए पूरी तरह से मुसीबत बना हुआ है और मेवात व स्थानीय विभागीय अधिकारी भी इस समस्या की ओर कोई ध्यान देने के तैयार नहीं है।

क्या कहते हैं विभागीय जेई:- इस मामले में पीडब्ल्यूडी विभाग के जेई राजकुमार का कहना है कि जिस समय मेवात पेयजल विभाग ने इस सडक को पेयजल लाइन के लिए खोदा उस समय यह मार्ग मार्केटिंग कमेटी बोर्ड के अंडर आता था, लेकिन अब यह पीडब्ल्यूडी के अंदर आता है और उन्होंने मार्ग को दुरूस्त कराने के लिए नूंह पेयजल विभाग को स्टीमेट बनाकर भेज दिया है, जल्दी स्टीमेट पास होते ही मार्ग को दुरूस्त कराया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।