ओंकार चंद ने एक महीने तो भारत भूषण गुप्ता ने माफ किया दो महीने का किराया
June 6th, 2020 | Post by :- | 136 Views
आनी:- (दिलाराम भारद्वाज ब्यूरो ) कोरोना महामारी के दौरान विभिन्न संस्थाएं और समाजसेवी विभिन्न माध्यमों से अपना योगदान समाज के लिए दे रहे हैं। आनी के ओंकार चंद और भारतभूषण गुप्ता ने भी अपना योगदान किराएदारों का किराया माफ कर दिया है। दोनों मकान मालिकों ने किराया माफ कर मिसाल पेश की है। ओंकार चंद ने किराएदारों का एक महीने का पूरा किराया माफ किया तो भारत भूषण गुप्ता ने दो महीने का प्रवासी मजदूरों का किराया माफ किया है। कोरोना महामारी के बाद उपजे हालात में उक्त दोनों मकान मालिकों की ये पहल काफी सराहनीय रही है।
ओंकार चंद बताते हैं कि उन्होंने अप्रेल महीने का पूरा किराया माफ किया है। करीब 11 किराएदार उनके भवन में हैं जिनमें से अधिकतर व्यवसायिक प्रयोग के लिए भवन का प्रयोग कर रहे हैं। अप्रेल महीने में लॉक़डाउन के कारण सभी की कमाई के साधन बंद हो गए। ऐसे में उन्होंने सभी किराएदारों से एक माह का किराया नहीं लिया है। उनका कहना है कि कोरोना के कारण उपजे हालात को देखते हुए उन्होंने ये फैसला लिया है। समाज ने कोरोना से लड़ने के लिए विभिन्न तरीकों से सहयोग दिया। इसी के चलते मैने और मेरे परिवार ने एक महीने का किराया न लेने का फैसला लिया ताकि किराएदारों को किसी वित्तीय परेशानी का सामना न करना पड़े। उनका कहना है कि वह कोरोना की लड़ाई में सरकार और प्रशासन के साथ हैं।
इसी तरह भारत भूषण गुप्ता ने दो महीने का किराया माफ कर प्रवासियों मजदूरों का सहयोग किया है। उनके घर में प्रवासी मजदूरों के चार परिवार किराएदार के तौर पर रहते हैं। उनका कहना है कि अप्रेल में लॉकडाउन होने के बाद प्रवासी मजदूरों की कमाई जहां बंद हो गई वहीं कमाई न होने के कारण अनाज आदि का भी संकट पैदा हो गया। इसके चलते भारत भूषण गुप्ता ने मजदूरों का किराया माफ कर दिया ताकि वह अनाज आदि के लिए राशि जुटा सके। इतना ही नहीं मई महीने का किराया भी उन्होंने मजदूरों का माफ कर दिया क्योंकि मजदूरों के पास लॉकडाउन के कारण रोजी रोटी का संकट मई महीने में भी बरकरार रहा। इसके पश्चात जून महीने से लॉकडाउन में ढील के चलते मजदूर अब स्वंय ही किराया देने के लिए राजी हैं। भारत भूषण गुप्ता का कहना है कि कोरोना के कारण उत्पन्न स्थिती में उन्होंने सरकार और प्रशासन का पूरी तरह से सहयोग किया है। आगामी समय में भी वह कोरोना से लड़ने के लिए सरकार और प्रशासन के साथ खड़े हैं।
वहीं एसडीएम आनी चेत सिंह का कहना है कि कोरोना के समय में इनके द्वारा की गई मदद काफी सराहनीय है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।