नूह जिले के बिछोर , मरोड़ा तथा कलियाकी गांव में 3 डिलीवरी हट की शुरुआत होएगी : डॉ वीरेंद्र सिंह यादव
June 6th, 2020 | Post by :- | 58 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  कोरोना पर काफी हद तक कंट्रोल पाने के बाद स्वास्थ्य विभाग में अब बदलाव की ब्यार शुरू हो चुकी है । नूह जिले के बिछोर , मरोड़ा तथा कलियाकी गांव में 3 डिलीवरी हट की शुरुआत होने जा रही है । इन डिलीवरी हट के शुरू होने से गर्भवती महिलाओं को अच्छा खासा लाभ होगा । अगले सप्ताह उपरोक्त तीनों गांव के डिलीवरी हट का उद्घाटन कर दिया जाएगा । इन तीनों डिलीवरी हट में उपकरण भी उपलब्ध करा दिए जाएंगे । इसके अलावा जिले में जल्द ही थायराइड के अलावा शुगर मरीजों की जांच हो सकेगी । शुगर के 3 महीने तक का जिस मशीन से पता चल जाता है , उसे भी जल्द खरीदा जाएगा । यह जानकारी सिविल सर्जन डॉ वीरेंद्र सिंह यादव ने पत्रकारवार्ता के दौरान दी । इसके अलावा पिछले दो – तीन दशक से जिले में चल रही अल आफ़िया सामान्य अस्पताल मांडीखेड़ा में डेडीकेटेड कोविड थियेटर की शुरुआत होने जा रही है । थिएटर के शुरू होने से गर्भवती महिलाओं के अलावा , कोविड मरीजों , इमरजेंसी में इसमें ऑपरेशन वगैरह हो सकेंगे । ध्यान रहे कि पहले मांडीखेड़ा सामान्य अस्पताल में महज एक ऑपरेशन थियेटर था।

कुल मिलाकर पिछले कई महीनों से कोरोना महामारी के चलते स्वास्थ्य विभाग के विकास कार्यों पर काफी असर पड़ा था , लेकिन कोरोना की टेंशन जैसे ही जिले में कम हुई तो स्वास्थ्य विभाग ने जिले के लोगों को अन्य सुविधाएं जल्द से जल्द देने पर अपना ध्यान केंद्रित किया है । सिविल सर्जन सिंह डॉ यादव का प्रयास है कि जिले के लोगों को किसी भी बीमारी स्थिति में रेफर करने के बजाए उनका जिले के सरकारी अस्पतालों में ही बेहतर से बेहतर इलाज किया जा सके । अगले 1 सप्ताह में  नूह जिले के स्वास्थ्य क्षेत्र में बड़े बदलाव किए जाने हैं । सभी की तैयारियां की जा रही है । उन्होंने कहा कि उपायुक्त नूह पंकज का भरपूर सहयोग मिल रहा है । इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों एवं कर्मचारियों मैं भी लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने की एक ललक है । लिहाजा जिले की स्वास्थ्य सेवाओं में बड़ा आमूलचूल परिवर्तन करना है। जिस दिशा में तेजी से कदम बढ़ाए जा रहे हैं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।