मेवात की महिलाओं के लिए खुशखबरी _ दो साल बाद अगले सप्ताह शुरू होंगे अल्ट्रासाउंड
June 6th, 2020 | Post by :- | 176 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  अल आफ़िया सामान्य अस्पताल मांडीखेड़ा में तकरीबन दो साल बाद अल्ट्रासाउंड शुरू होने जा रहे हैं ।  दो साल से जंग खा रही अल्ट्रासाउंड मशीन को चलाने के लिए अब महिला चिकित्सक मिल चुकी है ।अगले सप्ताह अल्ट्रासाउंड मशीन अपना काम शुरू करेगी। शुरुआती दौर में गर्भवती महिलाओं के 20 से 30 अल्ट्रासाउंड रोजाना किए जा सकेंगे , लेकिन दो -तीन माह बाद सभी तरह के मरीजों के अल्ट्रासाउंड अल आफ़िया सामान्य अस्पताल मांडीखेड़ा में शुरू कर दिए जाएंगे । यह जानकारी सिविल सर्जन डॉ वीरेंद्र सिंह यादव ने पत्रकारों से बातचीत के दौरान दी । सीएमओ डॉ वीरेंद्र सिंह ने बताया की अल्ट्रासाउंड मशीन को चलाने के लिए पिछले करीब 2 साल से कोई डॉक्टर नहीं था , जिसकी वजह से अल्ट्रासाउंड मशीन नहीं चल पा रही थी और कमरे पर ताला लटका हुआ था । अब विभाग ने कांटेक्ट पर नियुक्त की गई डॉक्टर सविता पन्नू को अल्ट्रासाउंड मशीन चलाने की जिम्मेवारी दी है । सिविल सर्जन डॉ वीरेंद्र सिंह यादव ने बताया कि डॉ सविता पन्नू को अल्ट्रासाउंड मशीन का संचालन बेहतर तरीके से करना आता है , इसीलिए उनको यह जिम्मेवारी दी गई है । आपको बता दें कि पिछले 2 सालों से सामान्य अस्पताल मांडीखेड़ा तथा सीएचसी नूह में अल्ट्रासाउंड मशीन डॉक्टरों की कमी की वजह से नहीं चल पा रही थी । लाखों रुपए कीमत की मशीन  बिना डॉक्टर के धूल फांक रही थी और मरीजों को निजी अस्पतालों में अल्ट्रासाउंड कराने को मजबूर होना पड़ रहा था । कई बार तो सीरियस मरीजों को बड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था । खासकर गर्भवती महिलाओं के लिए निजी अस्पतालों में अल्ट्रासाउंड कराना ना केवल जेब पर भारी पड़ रहा था , बल्कि आने – जाने में भी काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा था । कोरोना काल में विभाग ने गर्भवती महिलाओं के लिए अब यह सुविधा अगले सप्ताह से शुरू करने की पूरी तैयारी कर ली है । कुल मिलाकर जिले के लोगों के लिए यह बेहद राहत भरी खबर है । शुरुआत में गर्भवती महिलाओं को ही सही , लेकिन कम से कम सरकारी अस्पतालों में अब अल्ट्रासाउंड की सुविधा मिलने लगेगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।