थैलेसीमिया ग्रस्त बच्ची के रक्षक बने रेड क्रॉस सोसायटी व डॉक्टर|
June 5th, 2020 | Post by :- | 48 Views

थैलेसीमिया ग्रस्त बच्चे के रक्षक बने रेड क्रॉस सोसायटी डॉक्टर|

वीरवार को सैलोटी ग्राम की जानवी थैलेसीमिया ग्रस्त बच्ची को रक्त की आवश्यकता हुई परिजनों ने “अपना ब्लड बैंक” से संपर्क साधा। दोपहर का समय था और उस समय “O” पॉजिटिव यूनिट की एक भी यूनिट उपलब्ध नहीं थी। लॉकडाउन के चलते ब्लड डोनेशन कैंप काफी कम लग रहे हैं और वह लोगों की जरूरत को पूरा नहीं कर पा रहे। जैसे ही डॉ प्रशांत गुप्ता संरक्षक जिला रेड क्रॉस सोसायटी पलवल को इस कमी के बारे में पता चला तो अपने मित्र डॉक्टर जितेंद्र सिंगला के साथ मिलकर उस बच्ची के लिए दोनों ने अपनी बाहें फैला दी ।

गौरतलब है इस लॉकडाउन के चलते थैलेसीमिया ग्रस्त बच्चे, गर्भवती महिलाएं और कैंसर जैसे मरीजों को रक्त की भारी समस्या रही है।  इस कमी  को पूरा करने के लिए डॉ प्रशांत ने अपना ब्लड बैंक की तरफ से सभी से समय-समय पर सहयोग की मांग की है और पलवल के सभी प्रमुख संस्थाओं ने उनका साथ दिया है और समय-समय पर छोटे-बड़े रक्तदान शिविर लगाकर इसमें अहम भूमिका निभाई है।

कुछ दिन पहले ही डॉ प्रशांत गुप्ता ने इस लॉकडाउन पीरियड में नि:शुल्क 101 रक्त यूनिट बच्चों को उपलब्ध कराई गई और जानवी को 106वीं रक्त यूनिट मुहैया कराते हुए सचिन हस्पताल में मुफ्त ब्लड ट्रान्सफ्यूजन कराया गया।

इस अवसर पर मौजूद  महेश मलिक जिला प्रशिक्षण अधिकारी व विनोद जिंदल आजीवन सदस्य जिला रैड क्रॉस सोसायटी पलवल ने लोगों से अपील भी की है कि हम सभी को अपने जन्मदिन, महापुरुषों की जयंती, बुजुर्गो की पुण्यतिथि, सालगिरह के अवसर पर अवश्य ही रक्तदान करते हुए इन थैलेसीमिया ग्रस्त बच्चों को रक्त उपलब्ध कराने के उद्देश्य से इस रक्तदान के महायज्ञ में दान रूपी आहुति देनी चाहिये। उन्होंने ये भी बताया की आने वाले समय में एक सूची तैयार की गई है जिससे इन थैलेसीमिया ग्रस्त बच्चों को रक्त की कोई दिक्कत नहीं होगी।  इस अवसर पर  राजू, सतीश, टिंकू,  बृजपाल, आदित्य वशिष्ठ व दीपू कालरा भी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।