आयुष विभाग द्वारा चलाई गई कोरोना जागरूकता वैन को हरी झंडी दिखा किया रवाना
June 4th, 2020 | Post by :- | 136 Views
नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।  आयुष  द्वारा  जिले में  चलाए गए जागरूकता वाहन को जिला सचिवालय परिसर से वीरवार को उपायुक्त पंकज ने हरी झंडी दिखाकर रवाना करते हुए  कहा कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लोग स्वच्छ व स्वस्थ जीवन शैली को अपनाएं। शुद्ध व स्वच्छ खान-पान व्यक्ति के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है व बीमारियों से बचाव करती है। इसी प्रकार आयुर्वेदिक उपचार हमारी प्राचीन सभ्यता व संस्कृति का हिस्सा रही है और आयुर्वेदिक औषधियां रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने में सहायक हैं। इसलिए आमजन चिकित्सीय परामर्श के साथ अपने दैनिक जीवन मेें आयुर्वेदिक औषधियों उपयोग करके अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर सकते हैं।
उपायुक्त ने कहा कि वैश्विक महामारी के प्रकोप से पूरे विश्व में मानव जाति पीडि़त है ऐसे में शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में प्राकृतिक रोग प्रतिरोधक प्रणाली महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 माहमारी की कोई दवा अभी तक नहीं बनी है, इसलिए इस बीमारी से बचने के लिए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना ही बेहतर उपाय है। आयुर्वेद के सरल उपायों से रोग प्रतिरोधक क्षमता को आसानी से बढ़ाया जा सकता है क्योंकि आयुर्वेद में दिनचर्या व ऋतु चर्या के आधार पर खान-पान बताया गया है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है।

जिला आयुर्वेद अधिकारी डा. मंजू बागंड ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लोग स्वच्छ व स्वस्थ जीवन शैली को अपनाएं। शुद्ध व स्वच्छ खान-पान व्यक्ति के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है व बीमारियों से बचाव करती है। उन्होंने बताया कि निम्न उपाय को अपनाकर लोग आसानी से अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है।
प्रतिदिन उपयोग के लिए:-
गरारा करना:- एक चम्मच ताजा अदरक का रस और 30 मिलीलीटर पानी में चुटकी भर नमक मिलाकर प्रत्येक 4 घंटे पर गरारा करें ड्यूटी जाने से पहले व बाद में अवश्य करें। गरम पानी पिए:-   पूरे दिन केवल गर्म पानी पिएं पानी में धनिया ,सौंठ, तुलसी व काली मिर्च उबालकर गर्म पानी पीते रहें,ड्यूटी टाइम में भी पर्याप्त पानी पीते रहें।
अणु तेल का नस्य:- काम पर जाने से पहले व शाम को दो बूंद तेल दोनों नाक में डालकर हल्का रगड़े।
सामान्य दिनचर्या में बदलाव:- आधा घंटा तक गहरी सांस लें लेने व छोडऩे का योग अभ्यास करें, अच्छी नींद लें और तनावमुक्त रहें, आधा चम्मच हल्दी से उबला दूध अवश्य ले।
आयुष मंत्रालय की सलाह के अनुसार प्रतिदिन कम से कम 30 मिनट योगासन,प्राणायाम एवं ध्यान करें। हल्दी, जीरा, धनिया एवं लहसुन आदि मसालों का भोजन बनाने में प्रयोग करें।
रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के आयुर्वेदिक उपाय:- च्यवनप्राश 10 ग्राम (1 चम्मच) सुबह लें। मधुमेह के रोगी शुगर फ्री च्यवनप्राश लें। तुलसी, दालचीनी, काली मिर्च, शुण्ठी (सूखी अदरक) एवं मुनक्का से बनी हर्बल टी/काढ़ा दिन में एक से दो बार पिएं। स्वाद के अनुसार इसमें गुड़ या ताजा नींबू रस मिला सकते हैं।  गोल्डन मिल्क:- 150 उस गर्म दूध में आधा चम्मच हल्दी चूर्ण दिन में एक से दो बार लें।
सामान्य आयुर्वेदिक उपाय:- सुबह एवं शाम तिल/नारियल का तेल या घी नाक के दोनों छिद्रों में लगाएं।
केवल – 1 चम्मच तिल/नारियल तेल को मुंह में लेकर दो से तीन मिनट कुल्ले की तरह मुंह में ही घुमाएं। उसके बाद उसे कुल्ले की तरह ही थूक दें। फिर गर्म पानी से कुल्ला कर लें। ऐसा दिन में एक से दो बार करें।
खांसी/गले में खराश के लिए:-  दिन में कम से कम एक बार पुदीना के पत्ते/अजवाइन डाल कर पानी की भाप लें। खांसी या गले में खराश होने पर लौंग के चूर्ण में गुड़ या शहद मिलाकर दिन में दो से तीन बार लें। ये उपाय सामान्य सूखी खांसी एवं गले के खराश के लिए लाभदायक हैं। फिर भी अगर लक्षण बने रहते हैं तो डॉक्टर से परामर्श लें। जिला आयुर्वेद अधिकारी डा. मंजू बागंड ने बताया कि कोरोना योद्धाओं व लोगो में इमयूनीटी बढाने के लिए आयुष विभाग द्वारा संशमनी वटी वितरित किए जाने का कार्य किया जा रहा है जिसके तहत प्रत्येक कर्मी को 10 दिन तक संशमनी वटी की एक एक गोली प्रात: सायं गर्म जल से लेनी होगी। यह दवा जिले के सभी राजकीय आयुर्वेदिक में आम जनता के लिए नि:शुल्क उपलब्ध है।  जिला प्रशासन द्वारा जारी की गई हिदायतों का सभी दुकानदारों एवं आमजन को सख्ती से पालन करना छोटे बच्चों एवं 65 साल से बड़े बुजुर्गों को घर से बाहर नहीं निकलना तथा दुकानदारों को अपनी दुकानों को खोलते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना चाहिए ताकि सभी सुरक्षित रह सकें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।