शिक्षा विभाग की तरफ से प्राइवेट स्कूल वालों की मनमानी को रोकने के लिए जारी हुआ आदेश।
June 3rd, 2020 | Post by :- | 184 Views

करनाल, हरियाणा (रजत शर्मा)। स्कूल शिक्षा विभाग हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव डा. महावीर सिंह की ओर से एक आदेश पारित कर निजी स्कूलों के प्रबंधकों को, अभिभावको अथवा विद्यार्थियों से केवल ट्यूशन फीस लेने के लिए कहा गया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव के आदेशों की प्रति प्रदेश के सभी आयुक्त-सह-चेयरमैन फी एंड फंड रेगुलेटरी कमेटी, उपायुक्त, सभी जिला शिक्षा अधिकारी और अभिभावक एकता मंच हरियाणा को अनुपालना के लिए प्रेषित की गई है।

जिसमें कहा गया है कि जून 2020 से सभी निजी विद्यालय विद्यार्थियों से केवल ट्यूशन फीस चार्ज करेंगे, बिल्डिंग फंड, मैंटेनेंस, एडमिशन फीस व कम्पयूटर फीस इत्यादि, कोविड-19 के चलते पैदा हुई असामान्य स्थिति के तहत नहीं लिए जाएंगे। इस संबंध में उपायुक्त करनाल निशांत कुमार यादव ने बताया कि यदि कोई अभिभावक या संरक्षक अप्रैल व मई की फीस को मुल्तवी करने का अनुरोध करता है तो उसे स्वीकार करके आगे 3 महीनों की किस्तों में लिया जा सकता है।

निजी स्कूलों को कहा गया है कि वे मासिक ट्यूशन फीस में बढ़ोतरी नहीं करेंगे तथा न ही मासिक फीस में हिडन चार्जिज शामिल करेंगे। प्राईवेट स्कूलों को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि वे लॉकडाउन अवधि में विद्यार्थियों या संरक्षकों से ट्रांसर्पोटेशन फीस भी नहीं लेंगे। बतौर उपायुक्त वर्ष के दौरान कोई भी स्कूल विद्यार्थियों की वर्दी में बदलाव नहीं करेगा तथा न ही पाठ्य पुस्तक, गृह कार्य, प्रश्र हल करने की किताबें व प्रैक्टिल फाईल में बदलाव करेगा।

सभी प्राईवेट स्कूल विद्यार्थियों से फीस न प्राप्त करने की स्थिति में उनका नाम नहीं काटेंगे और न ही ऑनलाईन शिक्षा प्रदान करने से इंकार करेंगे। उपायुक्त ने बताया कि इस संबंध में अतिरिक्त मुख्य सचिव के निर्देशानुसार सभी निजी स्कूलों को सरकार की ओर से बीती 23 अप्रैल व 22 मई को जारी निर्देशों की कड़ी अनुपालना करने के लिए कहा गया है। यह निर्देश कोविड-19 को लेकर असामान्य हालात के चलते प्रदेश के नागरिकों के सामने पेश वित्तीय कठिनाई को देखते जारी किए गए हैं।

आदेशों में यह भी कहा गया है कि प्राईवेट स्कूल शैक्षणिक सत्र 2019-20 के तहत ही ट्यूशन फीस प्राप्त करेंगे।उपायुक्त ने जिला के सभी निजी स्कूल संचालकों से कहा है कि वे सरकार की ओर से जारी आदेशों की पालना करें। यदि कोई स्कूल इन आदेशों की अवेहलना करेगा तो उसके विरूद्घ हरियाणा स्कूल शिक्षा नियमावली-2003 के तहत कार्यवाही की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।