2 साल इंतजार के बाद भी किसानों को नही मिली 5 सितारा मोटर :- वरूण चौधरी
June 3rd, 2020 | Post by :- | 76 Views

अंबाला , मुलाना ( गुरप्रीत सिंह मुल्तानी )

बिजली और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री रंजीत सिंह ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के साथ बैठक के बाद 30 मई को कहा कि 4868 5-स्टार मोटर विभाग के पास उपलब्ध हैं।जबकि असल मे 30 मई घोषणा के दिन तक विभाग के पास एक भी 5 सितारा कृषि मोटर नहीं है, ये बात मुलाना विधानसभा से कांग्रेस विधायक वरुण चौधरी ने कही।उन्होंने कहा कि मुलाना विधानसभा क्षेत्र में बिजली विभाग के फील्ड अधिकारियों ने 27 मई 2020 को लिखे एक पत्र में किसानों को सूचित किया कि विभाग के पास मौजूदा मोटरें अब 3-स्टार रेटिंग वाली ही हैं।
ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिशिएंसी ने 1 फरवरी 2020 से पहले बनी सबमर्सिबल मोटर्स की संशोधित रेटिंग के अनुसार,पहले बनी 5-स्टार मोटर वर्तमान में 3-स्टार मोटरहैं।हरियाणा में, 82,000 किसानों ने ट्यूबवेल कनेक्शन के लिए आवेदन किया है, जिनमें से 9039 ने पूरी राशि का भुगतान किया है।
2018 में मोटर बनाने वाली गुजरात की कंपनी की क्षमता को सत्यापित किए बिना 29,000 5-स्टार मोटर्स की आपूर्ति करने के लिए एकल कंपनी को टेंडर दिया गया जो कुल मोटरों की देरी की आपूर्ति का मुख्य कारण प्रतीत होता है।
इसने हरियाणा के पहले से ही कर्ज में दबे किसानों के संकट को और बढ़ा दिया है। बिजली कनेक्शन के लिए दो साल का इंतजार और 2 साल बाद फिर 5 स्टार की जगह 3 सितारा मोटर किसानों को देने से किसानों की खेती में बाधा डालने का काम इस सरकार ने किया है।जिसके कारण किसान पर कर्ज बढ़ा है।चौधरी ने कहा कि जब किसानों को 3 सितारा मोटर ही उपलब्ध करवानी थी तो किसानों से दो साल का इंतजार क्यो करवाया गया किसानों को मोटर कनेक्शन के लिए क्यो दर दर भटकाया गया।उन्होंने कहा कि
भाजपा सरकार,दावा करती है कि वह 2022 तक किसान की आय को दोगुना करने का लक्ष्य बना रही है,परंतु कार्य इस लक्ष्य के विपरीत कर रही है ऐसे तो किसान की आय दोगुनी नही आधी रह जाएगी।उन्होंने कहा कि गुजरात स्थित कंपनी को समय पर ढंग से मोटरों की आपूर्ति नहीं करने के लिए दंडित और ब्लैकलिस्ट किया जाना चाहिए। यहां केवल किसानों को ही दोषी और दंडित किया जा रहा है चौधरी ने सरकार से मांग की कि ऐसे गलत काम करने वालों की जांच होनी चाहिए और किसानों को देरी और उत्पीड़न के लिए विधिवत मुआवजा दिया जाना चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।