जैविक खेती अपनाकर प्रर्यावरण की सुरक्षा करें किसान: एसडीएम
June 2nd, 2020 | Post by :- | 93 Views

तोशाम, 2 जून, संवाद सहयोगी गौड़। एसडीएम सन्दीप कुमार ने कहा है कि अंधाधुंध रसायनिक उर्वरकों का प्रयोग मानव सेहत के साथ-साथ खेतों की मिट्टी के स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक है। उन्होंने किसानों से जैविक खेती अपना कर स्वयं के साथ-साथ पर्यावरण की भी सुरक्षा में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने की अपील की। एसडीएम मंगलवार को गांव ईशरवाल में किसान अमरजीत द्वारा लगाई गई सब्जी, फल आदि का जायजा ले रहे थे।

एसडीएम ने कहा कि रसायनिक खाद के बूते होने वाली खेती के कारण मनुष्य में कई तरह की घातक बीमारियां फैल रही हैं। जो पूरे समाज के लिए चिंता का विषय बन गया है। ऐसी परिस्थिति में जरुरी है कि किसान रासायनिक खेती की पद्धति को छोड़कर जैविक खेती को बढ़ावा दें। उन्होंने कहा कि किसान अपने खेतों में रासायनिक खाद का प्रयोग कम कर जैविक खाद का प्रयोग करने पर ज्यादा जोर दें ताकि खेतों के मिट्टी की उर्वरा शक्ति बनी रहे और किसान खुशहाल हो सकें। उन्होंने कहा कि खेती के तौर तरीकों व वातावरण में हुए बदलाव का असर मिट्टी पर भी पड़ता है,इसलिए यह जरुरी है कि हर किसान अपने -अपने खेतों की मिट्टी की जांच जरूर कराएं। उन्होंने किसानों को मृदा के स्वास्थ्य का महत्व एवं मिट्टी जांच कार्ड के अनुशंसा के आलोक में संतुलित उर्वरक का प्रयोग करने को कहा।

इस अवसर पर एसडीएम के रीडर धर्मबीर सिंह, किसान अमरजीत, सोमवीर ईश्रवाल, संजय, मांगेराम, रणबीर आदि उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।