ठेका कर्मचारियों को नौकरी से निकालना दुर्भाग्यपूर्ण, काली पट्टियां बांध कर प्रदेश भर में विरोध प्रदर्शन करने का ऐलान :- सुभाष लांबा
June 2nd, 2020 | Post by :- | 80 Views

पलवल हसनपुर (मुकेश वशिष्ट) 02 जून :- सरकार ने फ्रंटलाइन कोरोना योद्धाओं के मददगार स्टाफ हेल्थ विभाग में कार्यरत करीब 15 हजार ठेका कर्मचारियों को 1 जुलाई से नौकरी से निकालने की तैयारी कर ली है। इसके खिलाफ स्वास्थ्य विभाग इन ठेका कर्मचारियों ने भी संभावित छंटनी के खिलाफ बुधवार को लंच टाइम में काली पट्टियां बांध कर प्रदेश भर में विरोध प्रदर्शन करने का ऐलान किया है।

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा एवं सीआईटीयू से संबंधित स्वास्थ्य विभाग ठेका कर्मचारी यूनियन हरियाणा के बेनर तले बुधवार को सभी पीएचसी, सीएचसी, सामान्य अस्पताल में प्रर्दशन किए जाएंगे। इन प्रदर्शनों में सालों से ठेके पर तैनात सिक्योरिटी गार्ड, सफाई कर्मचारी, वार्ड सर्वेंट, कंप्युटर आपरेटर, इलैक्ट्रीशियन, माली, धोबी, पलंबर, लिफ्ट मैन, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी शामिल होंगे।

बुधवार को होने वाले प्रदर्शनों का प्रदेश के कर्मचारियों के प्रमुख एवं संधर्षशील संगठन सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा, जिला प्रधान राजेश शर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनवारी लाल व सचिव योगेश शर्मा और मजदूर संगठन सीआईटीयू के जिला प्रधान श्रीपाल सिंह भाटी ने पुरजोर समर्थन का ऐलान कर दिया है। उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य विभाग ने सालों से तैनात 3200 सिक्योरिटी गार्ड को नौकरी से हटा कर होमगार्ड लगाने और विभाग में विभिन्न पदों पर तैनात ठेका कर्मचारियों के 27 फरवरी की गाइडलाइंस के मुताबिक मेन पावर के नए टेंडर आमंत्रित करने का फैसला लिया है।

सरकार व हेल्थ विभाग द्वारा इस मामले में निरंतर प्रकाशित हो रही खबरों पर चुप्पी साध लेने से करीब 15 हजार कर्मचारियों का भविष्य अंधकारमय है। उनकी 30 जून से छंटनी कर दी जाएगी। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा ने सरकार के इस निर्णय को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है और सरकार से इस फैसले पर पुनर्विचार करने की मांग की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।