बिना किसी वजह से घरों से बाहर ना निकलें लोग :एस एस पी ।
June 1st, 2020 | Post by :- | 110 Views

बिना किसी वजह लोग घरों से बाहर ना निकलें :एस एस पी ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
पंजाब में क्रोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए चलते आ रहे लोकडौन में जो पंजाब सरकार द्वारा छूट दी गई है ,उसके सबंध में एस एस पी देहाती विक्रमजीत दुग्गल द्वारा इस छूट के बारे में जानकारी देते हुए अमृतसर देहाती के लोगों को हिदायत की गई कि वह घरों से बाहर ना निकलें।कोई भी व्यक्ति बिना किसी काम के घर से बाहर नहीं आएगा लोग वही घर से बाहर जाएं जिनके लिए बाहर जाना बहुत जरूरी है ।यदि कोई घर से बाहर जाता है तो वह अपने मुँह पर मास्क या रुमाल के साथ ढककर बाहर जाएगा और समय समय पर हाथों को सैनेटाइज करेगा ।
अमृतसर देहाती क्षेत्र में बैंको को निर्देश जारी किए गए हैं कि बैंक सोशल डिस्टेंस को बनाकर रखेंगे ।जो बैंक सुरक्षा के मुताबिक शर्ते नही पूरी करता वह बैंक नही खुलेंगे ।
इसके साथ ही पंजाब सरकार द्वारा जो सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक बाजार खोलने की आज्ञा दी गई है ।इस सबंध में आदेश जारी किए गए हैं यदि दुकानदार और लोग सोशल डिस्टेंस की पालना नही करेंगे उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी और इसके साथ सारा बाज़ार सील कर दिया जाएगा ।इसके साथ ही बाजार खुलने की अनुमति नही दी जाएगी ।
सरकार द्वारा निर्धारित किये गए जुर्मानों के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने ने बताया कि जो व्यक्ति किसी जनतक जगह पर बिना मास्क चलेगा उसको 500 रुपये जुर्माना ,बिना वजह घर से बाहर निकलेगा उसे 2000 रुपये ,जनतक जगह पर थूकने पर 500 रुपये ,जुर्माना होगा ।इसके अतिरिक्त जो लोग और दुकानदार सोशल डिस्टेंस की पालना नही करेंगे उनको 2000 रुपये जुर्माना होगा और बार बार अवहेलना करने पर उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी ।
इसके साथ ही उनके द्वारा यह भी कहा गया है कि लोग किसी भी सूरत में इस बीमारी को हल्के में नही लेंगे और ऐसी कोई भी लापरवाही नही करेंगे जिसके साथ इसका खामियाजा हमे और परिवार को भुगतना पड़े। इसलिए अपने घरों में ही रहें ।उन्होंने ने कहा कि सरकार द्वारा मिली इस छूट से यदि लोग पुलिस का साथ देंगे तभी पुलिस उनकी मदद कर सकेगी ।यदि फिर भी लोग इसकी पालना नही करेंगे तो पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई करेगी ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।