लॉकडाऊन के दौरान रैड क्रॉस सोसाइटी ने विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से रक्तदान में हरियाणा राज्य रहा अव्वल व राज्य में जिला पलवल ने प्राप्त किया चौथा स्थान|
June 1st, 2020 | Post by :- | 72 Views

पलवल हसनपुर (मुकेश वशिष्ट), 01 जून :- कोविड-19 महामारी के संक्रमण को देश में बढ़ने से रोकने के उद्देश्य से दिनाँक 22/3/2020 को जनता कर्फ्यू का आह्वान देश के माननीय प्रधानमंत्री किया। जो कि बहुत कामयाब हुआ । इसी कड़ी में दिनाँक 26/3/2020 से 31/5/2020 तक देश में 4 चरणों में लॉकडाऊन चला। इस लॉकडाऊन के दौरान 10 वर्ष की आयु के बच्चों,  वर्ष की आयु के बुजुर्गो तथा गर्भवती महिलाओं के लिए घरों से बाहर निकलने के लिए सख्त से सख्त मनाही की गई थी। इन्ही तीनो वर्गों को सबसे अधिक रक्त की आवश्यकता देखी जाती है। जैसा कि लॉकडाऊन शुरू होते ही सर्वप्रथम पूरे भारत वर्ष में रक्त का अभाव होने लगा था।

उसे मद्देनज़र रखते हुए हरियाणा राज्य रैड क्रॉस ने सभी जिलों को आह्वान किया कि संस्था के वाहनों के वाहनों के माध्यम से रक्तदाताओ को घरों से लाया जाए और रक्तदान कराते हुए उन्हें वापिस उनके घर छोड़ा जाए। राज्य शाखा के इस आह्वान को ध्यान में रखते हुए हरियाणा राज्य में सभी जिला रैड क्रॉस शाखाओं ने जिलों की सभी सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से 550 छोटे-छोटे रक्तदान शिविरों का आयोजन करते हुए कुल 26350 रक्त इकाइयां एकत्रित की गई। जो कि पूरे भारत वर्ष में सबसे अधिक रक्त संचरण रहा।

जिला रैड क्रॉस सोसाइटी पलवल ने विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के सँयुक्त तत्वावधान में दिनाँक 22/3/2020 से 31/5/2020 तक गुजरे 72 दिनों में 73 रक्तदान शिविरों का आयोजन कराया जिनमे 2070 यूनिट रक्त एकत्रित हुआ जो कि पूरे हरियाणा राज्य में चौथे पायदान पर रहा। इन शिविरों में जिले के  तीनों रक्तकोष (500 यूनिट सरकारी अस्पताल, पलवल,  696 यूनिट लाइफ लाइन चेरिटेबल रक्तकोष तथा 586 यूनिट अपना ब्लड बैंक, पलवल) के अलावा 104 यूनिट भारतीय रैड क्रॉस सोसाइटी, राष्ट्रीय मुख्यालय, नई दिल्ली, 100 यूनिट रोटरी क्लब रक्तकोष, फरीदाबाद, 42 यूनिट डिवाइन चेरिटेबल रक्तकोष, फरीदाबाद, 42 संत भगत सिंह चैरिटेबल रक्तकोष, फरीदाबाद ने रक्त एकत्रित किया।

रक्तदान-महादान-जीवनदान के उद्देश्य को मद्देनज़र रखते हुए रैड क्रॉस सोसाइटी पलवल तथा जिले  की सभी सामाजिक संस्थाओ ने रक्तदातों के हाथ संक्रमण रहित करते हुए रक्तदान कराया गया। इन शिविरों के दौरान रक्तदाताओ को घरों से रक्तकोष तक लाया लेजाया  गया। इन 61 रक्तदान शिविरों में अनुभूति सेवा समिति,  उपकार मण्डल हसनपुर,  रोटरी क्लब पलवल संस्कार,  युथ डेवलपमेंट क्लब पृथला रोटरी क्लब पलवल सिटी, जन स्वास्थ्य एवं शिक्षा समिति, मानव सेवा समिति, कौशिक मेडिकल एजेंसी,  पलवल डोनर क्लब,  गीता भवन ट्रस्ट केयर फाउंडेशन  दूधोला, भारत स्काउट्स एवं गाइड,  कृष्ण गुरु कृपा ट्रस्ट, रैड क्रॉस के आजीवन सदस्यों, स्वयं सेवकों, गांव बहरौला,  छज्जुनगर,  जवां के निवासियों, पलवल डोनर्स क्लब, ज्योतिपुंज, यादव सेवा समिति,  सभी रक्तकोषों का भरपूर सहयोग करते हुए 2070 रक्त इकाइयां एकत्रित कराई।

इस दौरान दिनाँक 22/3/2020 से 31/5/2020 तक गुजरे 71 दिनों में अपना ब्लड बैंक, पलवल ने 96 रक्त इकाइयां, लाइफ लाइन चेरिटेबल ब्लड बैंक, पलवल ने 12 इकाइयां, 12 रक्त इकाइयां, रक्तकोष, सरकारी अस्पताल, पलवल ने थैलेसिमिक बच्चों को रक्त मुफ्त में उपलब्ध कराते हुए ट्रांसफ्यूजन कराया। थैलेसीमिया एक अनुवांशिक रोग है जिसमें बच्चे में रक्त नहीं बनता और उसे हर महीने एक यूनिट रक्त की आवश्यकता पड़ती है। इस संकट कि घड़ी में रेड क्रॉस सोसायटी, पलवल ने सभी स्वयं सेवको की मदद से ना केवल थैलेसीमिया ग्रस्त बच्चो को बल्कि घातक बीमारियों  से पीड़ित मरीजों को व गर्भवती महिलाओं को भी रक्त दिलवाने में अहम भूमिका निभाई।

नरेश नरवाल उपायुक्त एवं अध्यक्ष तथा वाजिद अली सचिव जिला रैड क्रॉस सोसाइटी पलवल ने सभी सामाजिक संस्थाओं, रक्तदाताओ का धन्यवाद किया है और भविष्य में भी इस प्रकार का सराहनीय कार्य करने हेतु अपील की है। महेश मलिक  प्रशिक्षण अधिकारी तथा रैड क्रॉस की टीम ने सभी सभी जिला वासियों से अपील की है की बहुत ही आवश्यक कार्य हो तो ही घर से बाहर निकले और निकलने से पहले ध्यान रखें कि आपके पास मास्क हो,  पॉकेट में सेनिटाइजर हो,  भीड़ से बचने की कोशिश करें तथा हैंड वाशिंग करने उपरांत ही आने चेहरे को साफ करें। 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे, 65 वर्ष की आयु से अधिक के बुजुर्ग तथा गर्भवती महिलाएं घरों से बाहर निकलने से बचें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।