मंदिरों पर गलत बयानी के लिए माफी मांगे कांग्रेसी पार्षद देवेंद्र बबला – हिंदू पर्व महा सभा
May 31st, 2020 | Post by :- | 56 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) कांग्रेसी पार्षद देवेंद्र बबला ने अपना एक वीडियो जारी करते हुए कहा है कि कोरोना काल में केवल गुरुद्वारों द्वारा ही लोगों की मदद की गई और मंदिरों ने कुछ नहीं किया। उनके इस वक्तव्य का हिंदू पर्व महा सभा ने कड़ा संज्ञान लिया है। हिंदू पर्व महा सभा चंडीगढ़ के 74 मंदिरों का प्रतिनिधित्व करती है। सभा के अध्यक्ष बी.पी. अरोड़ा ने कहा कि देवेंद्र बबला द्वारा दिया गया बयान अति निंदनीय है और तथ्यों से परे है। हिंदू पर्व महा सभा ने सभी मंदिरों के सहयोग से एवं मंदिरों ने अपने स्तर पर डेढ़ महीने तक पके हुए भोजन के प्रतिदिन 20 हजार से अधिक पैकेट जरूरतमंद लोगों को वितरित किए हैं। इसके अलावा जिन गौशालाओं में चारे की कमी थी वहां भी चारा हिंदू पर्व महा सभा द्वारा भेजा गया है और जरूरतमंद लोगों की हर संभव मदद की गई है। जबकि इन दिनों मंदिरों में चढ़ावे के तौर पर आने वाली आमदनी पूरी तरह से बंद है और खर्चे यथावत हो रहे हैं। बी.पी. अरोड़ा ने मांग की है कि देवेंद्र बबला अपनी इस गलत बयानी के लिए खुले मंच से माफी मांगे अन्यथा सभी मंदिर और हिंदू संगठन मिलकर उनके ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज करवाएंगे और कानूनी कार्यवाही करेंगे।

हिंदू पर्व महा सभा के महा-सचिव कमलेश सूरी ने कहा की देवेंद्र बबला ने मंदिरों के खिलाफ गलत बयान कर मंदिरों और मंदिरों में जाने वाले भक्तों को अपमानित किया है। साथ ही साथ हिन्दू और सिख धर्म के लोगों को आपस मे लड़वाने और मतभेद पैदा करवाकर शहर मे आपसी सौहार्द एवं माहौल बिगाड़ने की साजिश भी की है, जो कानूनन अपराध है।
हिंदू पर्व महा सभा के कानूनी सलाहकार और सनातन धर्म मंदिर सभा, सैक्टर 38 वैस्ट के अध्यक्ष पंकज गुप्ता ने कहा की कांग्रेसी पार्षद देवेंद्र बबला ने ओछी राजनीति की है और उनके वक्तव्य से शहर के सभी मंदिर और हिन्दू संगठन आहत हैं और उनमें भारी रोष है। उन्होंने कांग्रेस से भी मांग की कि देवेंद्र बबला के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे नहीं तो अगले साल चंडीगढ़ में होने वाले नगर निगम के चुनावों में भी कांग्रेस को इसका खामियाजा उठाना पड़ सकता है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।