दिसंबर तक वेंडर्स की फ़ीस माफ करें नगर निगम: पार्षद अनिल दूबे
May 30th, 2020 | Post by :- | 78 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) शुक्रवार को नगर निगम की बैठक में सदन में वेंडर्स का प्रस्ताव आया था जिसमें वेंडर्स के लिए अप्रैल और मई माह की फीस माफ करने का निर्णय लिया गया । जिस पर पार्षद अनिल दूबे ने आपत्ति जताते हुए कहा कि ना सिर्फ अप्रैल और मई माह बल्कि दिसंबर तक इनको छूट दी जानी चाहिए, लोग परेशान हैं काम काज न चलने के कारण वो लोग अपने परिवार का पालन पोषण करने में असमर्थ हैं और कोरोना का संकट काल अभी भी जारी है तो इन लोगों को इस पर दिसंबर माह तक की राहत दी जानी चाहिए।

भाजपा पार्षद अनिल कुमार दूबे ने सदन में खुलकर वेंडर्स के पक्ष में आवाज उठाई। दूबे ने कहा एक तरफ़ जहां शहर में ग़रीब लोगों के लिए राहत सामग्री बाँटने का काम चल रहा है। वहीं दूसरी तरफ़ ग़रीबों को आत्मनिर्भर होने देने के लिए वेंडर्स की फ़ीस दिंसबर माह तक माफ़ करने में आनाकानी की जा रहीं है। उन्होंने सदन में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के उस बयान को भी याद दिलाया, जिसमें प्रधानमंत्री जी ने आत्मनिर्भर होनी बात कहीं थी। दो माह के प्रस्ताव पास होने से दूबे नाराज है।
सदन में इस मुद्दे पर पार्षदो की सहमतीं न होने पर अनिल दूबे से उनकी तीखी नोकझोंक हो गई। अनिल दूबे ने नाराजगी जाहिर की उन्होंने कहा कि जो लोग काम करके अपने पैरों पर खड़ा होना चाहते हैं अपने बच्चों व परिवार का पालन पोषण करना चाहते हैं उनका काम काज ठप होने से उन लोगों को कोरोना संकट के कारण दुखो का सामना करना पड़ा है बहुत सारे लोग दुख सहन न कर पाने की वजह से अपने राज्यों को वापस चले गए है
दूबे ने कहा की इस समय वेंडर्स का बुरा हाल है उनके लिए अपने परिवार का पालन- पोषण् करना भी मुश्किल है वहीं उन्होंने बताया की उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्रमिकों, कामगारों के लिए राज्य में ही कामकाज देने को लेकर बढ़ावा देते हुए वहाँ के अधिकारीयों को निर्देश दिए हैं तो ऐसें नगर निगम को भी वेंडर्स की परेशानियों को देखते हुए उनके हक में काम करना चाहिए।
ऐसे में दूबे ने उनसे दिसंबर माह तक की लाइसेंस फीस माफ करने की पुरज़ोर माँग की हैं

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।