हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने अम्बाला-दिल्ली राष्टट्य राजमार्ग पर 5 एकड़ भूमि में 40 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले आर्यभट्टï विज्ञान केन्द्र का भूमि पूजन करके किया शुभारम्भ
May 28th, 2020 | Post by :- | 38 Views

अम्बाला :- अशोक शर्मा:
हरियाणा के गृह, स्वास्थ्य, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री अनिल विज ने आज वीरवार को अम्बाला-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर 5 एकड़ में लगभग 40 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होने वाले आर्यभट्ट विज्ञान केन्द्र (सब रीजनल साईंस सेंटर) का सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हुए विधिवत् भूमि पूजन करके निर्माण कार्य का शुभारम्भ किया। यह विज्ञान केन्द्र एक साल में तैयार हो जाएगा तथा इसमें साईंस सम्बन्धित 60 प्रदर्शनियां भी स्थापित की जाएंगी, जोकि विज्ञान के विभिन्न नियमों पर आधारित होंगी। इस प्रकार की व्यवस्था होने से विज्ञान से जुड़े विद्यार्थियों को काफी लाभ मिलेगा।
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री अनिल विज इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि 40 करोड़ रुपये से तैयार होने वाला यह विज्ञान केन्द्र दो मंजिला होगा। इसको चार मंजिला बनाने का प्रयास किए जाएंगे। साईंस के प्रति विद्यार्थियों की रूचि बढ़ सके, इसके लिए इस केन्द्र का निर्माण किया जा रहा है तथा इसमें साईंस से सम्बन्धित आधुनिक प्रदर्शनियां लगाई जाएंगी।
विज ने बताया कि यह प्रदेश का सबसे आधुनिक विज्ञान केन्द्र होगा। इस भवन का निर्माण पूरा होने पर हरियाणा साईंस एंड टेक्नोलॉजी और नेशनल काउंसिल ऑफ साईंस म्यूजियम कोलकत्ता द्वारा संयुक्त रूप से यहां विज्ञान से जुड़ी वस्तुओं व मॉडल्स को लाया जाएगा। यहां स्थापित होने वाली डिजिटल एडवेंचर गैलरी में डिजिटल पेंटिंग, बैलून ब्रस्ट, ऑगोमेटिड रियलटी, कलर सेसिंग रोबोट, हयूमन बॉडी सिस्टम, इंटरेक्टिव वाटर हॉल, इंटरेक्टिव सैंड टेबल, होलोग्राम, स्मार्ट इलेक्ट्रोनिक्स इत्यादि की सुविधाएं होंगी। इसी प्रकार प्रथम मंजिल पर फन साईंस गैलरी, साईंस ऑन स्फेयर, वर्चुअल गैलरी थियेटर, 270 डिग्री इम्प्रेसिव थियेटर और तारामंडल की व्यवस्था रहेगी। उन्होंने यह भी बताया कि यहां पर डिजिटल गैलरी भी बनाई जाएगी, जिसमें बच्चे स्क्रीन पर पेंंटिंग आदि भी बनाकर अपने कौशल को बढ़ा सकेंगे। आर्यभट्टï विज्ञान केन्द्र में मानव उत्पति सम्बन्धी विषय को लेकर भी फिल्मे प्रदर्शित और परिभाषित होंगी। ऐसी व्यवस्था भी निर्धारित मापदंड के तहत की जाएगी।
इस विज्ञान केन्द्र के पूरा होने पर लगभग 40 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसके लिए 13.73 करोड़ रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है तथा 8 करोड़ 33 लाख रुपये की राशि अलॉट कर दी गई है। उन्होंने अधिकारियों को इस प्रोजैक्ट को समय अवधि से पूर्व पूरी पारदर्शिता और गुणवत्ता के साथ पूरा करने के निर्देश दिए।
इस मौके पर विज्ञान एंव प्रौद्योगिक विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अमित झा, लोक निर्माण विभाग के अधीक्षक अभियंता संजीत कुमार, कार्यकारी अभियंता निशांत, डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह, डीएसपी रामकुमार, मीडिया कोर्डिनेटर विजेन्द्र चौहान, अजय पराशर, राजीव डिम्पल, किरण पाल चौहान, जसबीर सिंह जस्सी, मनसा देवी श्राइन बोर्ड के सदस्य बलकेश वत्स सहित अन्य मौजूद थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।