टिड्डी दल की सूचना के लिए सरपंचों के बनाए वट्सअप ग्रुप : उपायुक्त
May 28th, 2020 | Post by :- | 93 Views

भिवानी, 28 मई संवाद सहयोगी ममता गौड़।
टिड्डी दल से निपटने के लिए कृषि विभाग ने विशेष कार्य योजना तैयार की है। उपायुक्त अजय कुमार के निर्देशानुसार कृषि एवं किसान कल्याण विभाग ने जिला में खंड स्तर पर सरपंचों के वट्सअप ग्रुप बनाए हैं ताकि टिड्डी दल के प्रवेश पर तुरंत एक-दूसरे को सूचना दी जा सके, जिससे उस पर नियंत्रण किया जा सके। कृषि विभाग के लोहारू के अलावा सिवानी व बहल खंड स्तर पर टिड्डी दल से बचाव के लिए 100-100 दवाई रखवाई है। इसके अलावा दवाई के छिडक़ाव के लिए टै्रक्टर मशीनों काी सूची तैरूार की गई है। विभाग के अधिकारी राजस्थान के अधिकारियों के साथ निरंतर संपर्क में हैं।
कृषि विभाग के उप निदेशक डॉ. प्रताप सिंह सभ्रवाल ने बताया कि जिला में प्रत्येक गांव स्तर पर कमेटियों को गठन किया जा चुका है, जिसमें संबंधित गांव के कृषि विकास अधिकारी, पटवारी व ग्राम सचिव शामिल हैंं। इसके अलावा जन प्रतिनिधि के रूप में पंचायत प्रतिनिधि भी जागरूकता समितियों में शामिल किए गए हैं। कमेटियों द्वारा गांवों में किसानों को जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि खंड स्तर पर बनाए गए वाट्सअप ग्रुप में सभी एडीओ और एटीएम में भी शामिल हैं। इसके अलावा संब्रंधित एसडीएम और बीडीपीओ को जोड़ा गया है। उन्होंंने बताया कि टिड्डी दल से निपटने के लिए लोहारू में हैफेड में 200 लीटर क्लोरोफायरीफोस दवाई रखवा दी गई है, जिसे जरूर पडऩे पर लिया जा सकता है। दवाई का छिडक़ाव टै्रक्टर के द्वारा स्प्रे के माध्यम से किया जाएगा। इसके अलावा सिवानी व बहल ब्लॉक स्तर पर भी 100-100 लीटर दवाई रखवाई गई है।

करीब 200 टै्रक्टर मशीनों की बनाई सूची

डॉ. सभ्रवाल ने बताया कि टिड्डी दल पर टै्रक्टर संचालित मशीनों से स्प्रे किया जाएगा। इस तरह की करीब 200 मशीनों की सूची तैयार की गई है। जरूरत पडऩे पर इनका प्रयोग किया जाएगा। उन्होंने बताया कि विभाग पूरी तरह से अलर्ट है।

जरूरत पडऩे पर बुलाई जाएगी फायर ब्रिगेड

डॉ. सभ्रवाल ने बताया कि टिड्डी दल से निपटने के लिए अग्रिशमन विभाग को भी सूचित कर दिया गया है। सभी गाडिय़ांं हर पर तैयार हैं। जहां भी जरूरत होगी, फायर ब्रिगेड की गाडिय़ों को बुलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इसके लिए नियंत्रण कक्ष के इंचार्ज की ड्यूटी लगाई जा चुकी है।

राजस्थान सरकार के निरंतर संपर्क में है विभाग

टिड्डी दल कहां पर है और किस ओर जा रहा है, इसको लेकर कृषि विभाग राजस्थान के संबंधित अधिकारियों के निरंतर संपर्क में है। डॉ. संभ्रवाल ने बताया कि राजस्थान के जौथपुर में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है, वहां के संयुक्त निदेशक डॉ. केएल गुज्जर से निरंतर संपर्क स्थापित किया हुआ है। उन्होंंने बताया कि फिलहाल टिड्डी दल सरदार शहर और ड़ंगरपुर के बीच है। उन्होंने बताया कि भिवानी में चुरू-पिलानी-झुुंझनू की तरफ से प्रवेश कर सकता है। ऐसे में विभाग ने पूरी तैयारी की हुई है।

ड्रम बजाने व दवाई का छिडक़ाव करने के लिए किया जा रहा है जागरूक

डॉ. सभ्रवाल ने बताया कि किसानों को जागरूक किया जा रहा है कि दवाई के अलावा धुंआ व ड्रम/ पीपा बजाकर भी टिडी दल से बचा जा सकता है। किसानों को जागरूक किया जा रहा है कि यदि रात के समय टिडी दल का प्रकोप होता है कि उस अवस्था में दवाई के छिडक़ाव से ही निजात मिल सकती है।

इस प्रकार किया गया है टीमों का गठन

जिला प्रशासन द्वारा जिले में टिड्डी नियंत्रण कक्ष की स्थापना की गई है जिसके नोडल अधिकारी जिला स्तर पर सुरेंद्र कुमार 9466746306 सहायक पौधा संरक्षण अधिकारी भिवानी को बनाया गया है व इसके साथ-साथ भिवानी उपमंडल के अंतर्गत खंड भिवानी में खंड कृषि अधिकारी विरेंद्र सिंह 7988068628, बवानीखेड़ा ब्लाक में खंड कृषि अधिकारी कुलदीप सिंह 9416856247, तोशाम व कैरू ब्लाक में खंड कृषि अधिकारी संजय कुमार 8950488352, सतबीर शर्मा 9992020973 उपमंडल कृषि अधिकारी को उपमंडल स्तर पर, लोहारू खंड में खंड कृषि अधिकारी रणसिंह 9416985349 तथा बहल खंड में सुरेंद्र सिंह 9053394418 खंड कृषि अधिकारी तथा उपमंडल स्तर पर उपमंडल कृषि अधिकारी ईश्वर सिंह 9050963170 को नोडल अधिकरी बनाया गया है। सिवानी खंड में खंड कृषि अधिकारी जगरूप 8929619984 को तथा उपमंडल कृषि अधिकारी सुखदेव 9416779609 को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है ।

बैठक में दिए जरूरी निर्देश
डॉ. सभ्रवाल की अध्यक्षता में उनके कार्यालय में संबंधित कृषि अधिकारियों की एक बैठक भी आयोजित हुई। बैठक में सभ्रवाल ने टिड्डी दल से निपटने व जागरूकता अभियान की समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिए कि किसानों को टिड्डी दल के बारे में जागरूक किया जाए। किसानों को बताएं कि यदि कोई टिड्डी दिखाई दे तो उसकी सूचना तुरंत सरपंच या कृषि विभाग को दें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।