पीलीभीत : जेल अधीक्षक अनूप मानव शास्त्री की अनोखी पहल को शोशल मीडिया पर मिल रही तारीफ
May 28th, 2020 | Post by :- | 90 Views

पीलीभीत, विक्रान्त ऋषि । 

पीलीभीत : पूरे देश मे वैश्विक महामारी के चलते बीते दो माह से हुए इस लॉक डाउन ने मानो जीवन की रफ्तार में एक विराम सा लगा दिया हो इसी के चलते कोरोना काल में पीलीभीत की जिला कारागार के जेल अधीक्षक ने अपनी ड्यूटी (कर्तव्य) के साथ साथ देश के नागरिक होने का फर्ज निभाते हुए कोरोना जागरूकता के लिए अपने द्वारा लिखे गए गानों को रिलीज कर जेल के प्रति समाजिक धारणा की अनुभूति से पर्दा हटाकर एक मिसाल पेश की है । जी हां पीलीभीत के जेल अधीक्षक अनूप मानव शास्त्री ने जेल में सजा काट रहे बंदियों से कोरोना जागरूकता के लिए जेल की दीवारों पर देश मे पहली वाल पेंटिंग बनवाई है । यही नहीं जेल में मास्क, सेनेटाइजर, व टर्नल जैसी सुविधाओ को बंदियों के माध्यम से तैयार कर समाज के बीच बंदियों को भी कोरोना योद्धा के रूप में स्थान दिलाया । बीते दिनों जेल अधीक्षक का कोरोना जागरूकता के लिए रिलीज हुआ गाना *”चिड़ियों की दुआएं आसमानों तक पहुँच रहीं हैं”* ने शोशल मीडिया से लोगो की कॉलर ट्यून तक काफी पंसद किया गया ।

वहीं जेल में सजा काट रहे बंदियों अनुपम त्रिवेदी के संगीत और देवेंद्र मिश्रा की आवाज में जेल अधीक्षक अनूप मानव शास्त्री ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आव्हान पर आत्मनिर्भर गाने को समाज के श्रमिक व किसानों के लिए रिलीज कर उन्हें समर्पित किया जिसको लेकर जेल अधीक्षक को खूब तारीफ मिल रही है। सबसे खास बात यह है कि इस गाने के बोल व संगीत को दो दिन में ही तैयार कर 26 मई को रिलीज करने का कारण देश के यशस्वी प्रधानमंत्री द्वारा शपथ भी इसी दिन ली गई थी । जिन्होंने देश मे एक नई दिशा देने का काम करने के साथ साथ इस देश के बदले हालातो में भी लगातार समाज से जुड़कर काफी प्रयास रत रहे हैं और उनकी पहल आत्मनिर्भर को ध्यान में रखते हुए इस गाने को रिलीज किया गया है। पीलीभीत की जेल की कहानी सुनकर आपको थोड़ी हैरानी जरूर हुई होगी ।

 

लेकिन आपको बता दें समाज के बीच मन मे वसी वो जेल के प्रति धारणा जेल में जेल अधीक्षक का भय और कैदियों को मिलने वाली सजा इन सभी व्यंगों से पीलीभीत के जेल अनूप मानव शास्त्री ने इस कोरोना काल मे कर ही नही। दिखाया बल्कि अपने प्रयासों से जेल में बंदियों को कोरोना योद्धाओं बनाने के साथ साथ जेल की सलाखों के पीछे उसके भीतर की हकीकत से भी समाज के बीच नकारात्मक विचार को भी बदल कर रख दिया । जेल अधीक्षक की माने तो उनका साफ तौर पर कहना है ये सब उन्होंने अकेले नही बल्कि उनके साथ डिप्टी जेलर विक्रम सिंह की अहम भूमिका रही है । जिन्होंने पूरे जेल स्टाफ के साथ जेल की सकारात्मक तस्वीर समाज के बीच लाने के लिए काफी सहयोग किया । जिसकी वजह से पीलीभीत जिला कारागार का पूरे देश मे तारीफ मिलने का काम हो रहा है ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।