आर्थिक पैकेज में अनदेखी व फसल बिक्री के भुगतान ना होने से नाराज़ किसानों का प्रदर्शन|
May 27th, 2020 | Post by :- | 86 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ट) :-  केन्द्र सरकार द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज में किसानों की अनदेखी व फसल बिक्री के भुगतान ना होने नाराज किसानों ने अखिल भारतीय किसान सभा व किसान संघर्ष समन्वय समिति के आह्वान पर  शारीरिक दूरी का पालन करते हुए प्रदर्शन किया। देवीलाल पार्क में आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता जिला प्रधान धर्म चन्द ने की तथा सचिव रुपराम ने किया।

किसानों को सम्बोधित करते हुए किसान सभा के नेताओं ने बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज देश के किसान व मजदूरों के साथ धोखा है। उन्होने आरोप लगाया कि सरकार बड़े-2 पूंजीपतियों का लाखों करोड का कर्जा माफ कर सकती है जबकि किसानो के कर्ज माफी से सरकार की वित्तिय सेहत खराब होने लगती है।किसानों को तो ब्याज माफी का भी लाभ तक नही दिया गया है।

उन्होनें मांग की कि किसानों को स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के अनुसार लागत का डेढ गुना समर्थन मूल्य दिया जाए।किसानों को खाद,बीज,कीटनाशक दवाईया व तेल आदि सस्ती दरों पर दिया जाए।उन्होनें मांग की कि किसान सम्मान निधि की रकम में बढ़ोत्तरी की जाए।प्रत्येक किसान व गरीब मजदूर परिवारों को दस हजार रुपये प्रति माह दिया जाए।किसान सभा ने मांग की कि किसानों की फसल बिक्री का भुगतान तुरंत प्रभाव से किया जाए।

नेताओं ने आरोप लगाया कि मंडियों में किसानों से प्रति क्विंटल 20 से 27 रुपये नाजायज कटौती की जा रही है। उन्होनें मांग की कि सरकार अपने वायदे के मुताबिक किसानों को बोनस का भुगतान किया जाए।देश के किसानों,भूमिहीन किसानों व खेत मजदूरों को एक बार पूर्ण कर्जमुक्त किया जाए।सभी बटाईदार किसानों का पंजीकरण करके उन्हें एम एस पी,कर्जमाफी सहित फसल नुक्सान के सरकारी लाभ की गारंटी दी जाए।

प्रदर्शन में किसान नेता ताराचन्द, चन्दनसिंह, सोहनपाल, बीधूसिंह, श्यामदत्त शर्मा, लालसिंह दुधौला, सबरजीत, किशनचन्द, मानसिंह, नंदकिशोर, दरयाब सिंह, बलजीत शास्त्री व रमेश चन्द ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।