मोदी सरकार ने कोरोना के समय में विश्व में सबसे बेहतरीन ढंग से काम किया है- केन्द्रीय राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया
May 26th, 2020 | Post by :- | 71 Views

अम्बाला/नारायणगढ़, ( सुखविंदर सिंह ) केन्द्रीय जल शक्ति, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री व अम्बाला लोकसभा क्षेत्र के सांसद रतनलाल कटारिया ने कहा कि उन्होंने अम्बाला लोकसभा क्षेत्र के विभिन्न प्रकार के 50 विकास कार्यो के लिए अढाई करोड़ रूपये जारी किये है। वे आज यहां भाजपा कार्यालय में प्रेस वार्ता कर रहे थे। इस अवसर पर उनके साथ कुरूक्षेत्र से सांसद नायब सैनी व भाजपा महिला मोर्चा जिला उपाध्यक्ष सुमन सैनी सहित अन्य पदाधिकारी भी मौजूद रहे। 

                 उन्होंने कहा कि आज सारा संसार कोरोना महामारी से ग्रस्त है। भारत भी इससे अछूता नहीं है। लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना वायरस के खतरे को पहले ही भांप लिया था और डब्लयू एच ओ से पहले ही श्री मोदी ने सभी अन्तर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय उड़ाने बन्द कर दी थी और 25 मार्च से देश में पूर्ण लॉकडाऊन लगा दिया था। जिस दिन कोरोना महामारी का पता चला था। उस दिन देश में एक ही टेस्टिंग लैब पूना में थी। अब मोदी सरकार ने प्रयास करके टेस्टिंग लैबों की संख्या देश में 200 से अधिक कर दी है। देश में पीपीई किट नहीं बनते थे, वह भी आज देश में बन रहे हैं। 

                प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना महामारी के समय में देश को 1 लाख 70 हजार करोड रूपए का पहला राहत पैकेज दिया और आत्मनिर्भर पैकेज में देश को 20 लाख 97 हजार 53 करोड रूपए का बडा राहत पैकेज पार्ट एक से पार्ट पांच में दिया है। सरकार ने कोरोना से फ्रंट पर आकर लड़ाई लड़ी है और भारत को आत्मनिर्भर बनाने पर ध्यान दिया। सरकार ने हैल्थ के लिए विशेष पैकेज दिए हैं। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत जनता को राहत दी जा रही है। आरबीआई ने इन्डस्ट्री को विशेष राहत दी है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कारोबारियों के लिए भी विशेष पैकेज दिए हैं। भारत के अन्दर आज कोरोना के 1,38,345 केस हैं, 4021 मृत्यु हुई है और 57720 ठीक हुए। अब 13 दिन में केस डबल हो रहे हैं। कोरोना में रिकवरी रेट 41.57 प्रतिशत है। मृत्यु की रेसो 2.9 प्रतिशत है। जो दुनिया के अन्य देशों से बहुत कम है। सरकार कोरोना के समय में विश्व में सबसे बेहतरीन ढंग से काम किया है।

            मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक साल हुआ है। इस कार्यकाल में सरकार ने धारा 370, 35 ए हटाने, तीन तलाक समाप्त करने जैसे कार्य किए। तीन महीने से पूरा देश मिलकर कोरोना महामारी से लड़ रहा है। इस दौरान मोदी सरकार ने राज्य सरकारों को भी विशेष राहत पैकेज दिए हैं। 

     विपक्ष के पास आज ना तो कोई एजेन्डा है ना नीति और ना ही नेतृत्व है। कांग्रेस झूट की राजनीति कर रही है। प्रियंका गांधी ने यूपी में बसें भेजने की नौंटकी की। नम्बर स्कूटर के दिए गए और नाम बस का लिया गया। यह सब झूठ के सिवा कुछ नहीं है। 

     उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों की गेंहू का एक-एक दाना खरीदा। किसानों की आमदनी दोगुनी करने पर सरकार कार्य कर रही है। उन्होने स्वयं कोरोना महामारी के दौरान लोकसभा अम्बाला में पडने वाले तीनों जिला अध्यक्षों से लगातार बैठकें की और कोरोना की समीक्षा की। जिसकी रिपोर्ट वह प्रधानमंत्री मोदी को देते रहे। उनके पास केन्द्र के दो मंत्रालय हैं। 2024 तक हर घर में जल पहुंचाने के लक्ष्य को सरकार पूरा करेगी। जो भी राज्य सरकार इसमें अच्छा कार्य करेगी उसे 10 प्रतिशत फालतू पैसा दिया जाएगा। अटल भू जल योजना के तहत बढिया कार्य करने वाले अग्रणी सातों राज्यों में हरियाणा भी शामिल है, राज्यों को 711 करोड रूपए दिए गए। जिसमें वाटर लेवल ऊपर उठाने तथा पुराने जल स्रोतों को ठीक करने का कार्य किया जाएगा। 

             उन्होंने कहा कि विपक्ष कोरोना पर राजनीति ना करें। मजदूरों को भिजवाने के लिए सरकार ने विशेष रेलगाडिय़ा चलाई है जिसके लिए उन्होंने भी खुद रेल मंत्री  पीयूष गोयल से बात की और अम्बाला लोकसभा क्षेत्र से भी श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है। केन्द्रीय राज्य मंत्री ने नारायणगढ के भाजपा कार्यकर्ताओं की भी सराहना की जिन्होने कोरोना समय में लोगों के खाने की व्यवस्था करने के अलावा, सुखा राशन किट, पीपीई किटें, मास्क भी बांटें है। सांसद नायब सिंह सैनी ने भी यहां कार्यकर्ताओं से मिलकर सराहनीय कार्य किया। इस अवसर पर जिला परिषद चेयरमैन सुरेन्द्र राणा, भाजपा जिला उपाध्यक्ष अश्वनी अग्रवाल, नम्बरदार सुरेश पाल, नारायणगढ मण्डल प्रधान रणदीप सिंह बांका सैनी, मारकण्डा मण्डल प्रधान जसवीन्द्र बख्तुआ, शहजादपुर मण्डल प्रधान संजीव गुर्जर, मार्किट कमेटी चेयरमैन नवीन शर्मा, नरेन्द्र राणा कुराली सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।  

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।