60 सरकारी स्कूली जरूरतमंद विद्यार्थियों के लिए डीओसी योगेश सौरोत को स्टेशनरी प्रदान करते हुए कमलेश जटवानी|
May 25th, 2020 | Post by :- | 106 Views

हसनपुर पलवल (मुकेश वशिष्ठ) :- भारत स्काउट्स एंड गाइड्स के तत्वाधान में जरूरतमंदों विद्यार्थियों के सहयोग के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर होडल के समाजसेवी रमेश पुस्तक भंडार के संस्थापक स्वर्गीय ओमप्रकाश जटवानी की पुण्य स्मृति में उनकी धर्मपत्नी कमलेश जटवानी और उनके पुत्र धीरज जटवानी ने “नर सेवा नारायण सेवा” को चिरतार्थ करते हूए जरूरतमंद सरकारी विद्यालयों के 60 विद्यार्थियों को स्टेशनरी प्रदान करने लिए संस्था के जिला संगठन आयुक्त योगेश सौरोत को सौंपी गई।

कार्यक्रम में सामाजिक दूरी तथा  चेहरे पर मास्क संबंधी लॉक डाउन के नियमों  का पूरा ध्यान रखा गया। कमलेश जटवानी ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न हुई आपदा के इस समय में प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य है कि वह यथासंभव जरूरतमंद व्यक्तियों की मदद करें। उन्होंने भी इसी भावना को दृष्टिगत रखते अपने दिवंगत पति की पुण्य स्मृति में हुए यह कार्य किया है।

भारत स्काउट्स एंड गाइड्स के जिला संगठन आयुक्त योगेश सौरोत ने बताया कि पिछले दो महीने के लॉक डाउन में संस्था के स्वयंसेवक अलग-अलग स्तर पर समाज के लोगों की सेवा व सहयोग के लिए हमेशा तत्पर रहे हैं गत वर्ष भी जिला शिक्षा अधिकारी अशोक बघेल के मार्गदर्शन में संस्था द्वारा सरकारी विद्यालयों के सैकड़ों जरूरतमंद विद्यार्थियों को शिक्षण सामग्री विभिन्न संस्थाओं तथा समाजसेवियों के सहयोग से प्रदान की गई थी इस वर्ष भी इस मुहिम के अंतर्गत सभी के सहयोग से जरूरतमंद विद्यार्थियों हर संभव मदद प्रदान की जाएगी जिससे उनके शिक्षण कार्य में किसी प्रकार की बाधा उत्पन्न न

इस अवसर पर विशेष अतिथि के रुप में उपस्थित अखंड भारत संस्कार सभा के प्रदेश अध्यक्ष बृजेश शर्मा भैया जी ने नर सेवा नारायण सेवा के अंतर्गत समाज के गणमान्य व्यक्तियों से इस प्रकार के पुनीत कार्यों में सहयोग का आह्वान किया। इस अवसर पर संस्था के जिला संयोजक विष्णु गौड, सुमित मेहंदीरत्ता, राजू हसीजा, हरीश पाहुजा, पारित जटवानी, कपिल चौधरी, गिर्राज सिंह, कन्हैया सैनी, दीपक, रिंकू, राहुल, रतन सिंह, पवन सिंह, लोक बहादुर, बबली, पवन बडगूजर आदि उपस्थित रहे।

 

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।